GST Fraud: लोगों को भनक नहीं कब उनके नाम से खुल गई फर्जी कंपनी

GST Fraud:अक्सर फिल्मों में देखने को मिलता है कि फ्रॉड के नए-नए तरीके अपना कर लोगों को चपत लगाई जाती है, लेकिन हकीकत जिंदगी में भी यही हो रहा है। जीएसटी में फ्रॉड करने वालों ने फर्जी कंपनियां बनाई। खास बात यह है कि जिन लोगों के नाम कंपनी बनी है, उनको पता तक नहीं कि उनके नाम से कोई कंपनी चल रही है। 15 से 20 हजार करोड़ के राजस्व का सरकार को चूना लगाया गया है। थाना सेक्टर 20 पुलिस में आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। 400 और नई कंपनियों का पता चला है जिनके जरिए, यह लोग फ्रॉड करते थे। अब कल 3066 कंपनियां हो गई है जो जांच के घेरे में है।

यह भी पढ़े : यूपी में लाउडस्पीकर अभियानः 231 उतरवाए और 728 की कराई आवाज कम

 

बगैर जीएसटी वाली कंपनी करीब 1000 हैं जिनकी जानकारी पुलिस को मिली है। नोएडा डीसीपी हरिश चंदर ने बताया कि पुलिस अलग-अलग शहरों में जाकर दबिश दे रही है। राज्य और केंद्र की कई एजेंसियां इस मामले में जांच कर रही हैं। सभी एजेंसियों से मिल रहे इनपुट के आधार पर ही पुलिस अपनी जांच आगे बढ़ा रही है। फ्राॅड का नेटवर्क देश के लगभग सभी राज्यों में फैला है। इस कारण सभी राज्यों और शहरों में इस मामले के इनपुट के बारे में पता किया जा रहा है। वही रेवेन्यू इंटेलिजेंस की टीम भी सक्रिय हो गई है। ताकि पूरे फ्रॉड का पता लगाया जा सके। हजारों करोड़ के जीएसटी चोरी के मामले में जीएसटी अधिकारी पुलिस से जानकारी जुटा रहे हैं। इतना ही नहीं नोएडा पुलिस के डीसीपी हरिश चंदर, एडीसीपी शक्ति मोहन अवस्थी और एसीपी रजनीश वर्मा के पास दूसरे राज्य से लोग लगातार फोन कर रहे हैं जिससे कि पता चल पाए कि उनके नाम से तो कोई फ्रॉड नहीं किया गया है।

 

यहां से शेयर करें
Previous post यूपी में लाउडस्पीकर अभियानः 231 उतरवाए और 728 की कराई आवाज कम
Next post रेवाड़ी की तरह बांटते थे बिल्डर प्लॉट, प्राधिकरण को हजारों करोड़ का नुकसान