मैथ्स में रामानुजन के आविष्कार और योगदान

जिस तरह मोर में उसकी कलगी और नागों में उसकी मणि का विशिष्ट स्थान होता है ठीक उसी प्रकार सभी वेदांगों में गणित का स्थान सर्वोपरि है, हो भी क्यों न। भारत में प्राचीन काल से ही आर्यभट्ट, वराहमिहिर, नारायण पंडित और भाष्कराचार्य जैसे अनेक महान गणितज्ञ हुए हैं जिन्होंने अपनी गणितीय खोजों द्वारा पूरे विश्व को राह दिखाई। जीरो, दशमलव और अनंत की खोज न हुई होती तो वैज्ञानिक प्रगति के जिस शिखर पर मानव सभ्यता आज विराजमान है वहां तक पहुँचना शायद संभव न हुआ होता। इन मैथ्समेटिकस खोजों के बिना मानव का अंतरिक्ष में जाना और किन्ही दो खगोलीय पिंडों के बीच की दूरी ज्ञात करना या सागर की गहराई का अंदाजा लगाना बहुत ही मुश्किल होता।

रामानुजम का जन्म 22 दिसंबर 1887 में

केवल प्राचीन युग में ही नहीं आधुनिक काल में भी भारत में अनेक महान गणित के विदवान हुए हैं। इनमें श्रीनिवास रामानुजम अत्यधिक सपूर्ण प्रतिभा सम्पन्न थे, जिनकी असाधारण खोजों के समक्ष दुनिया आज भी उनके समक्ष नतमस्तक है। रामानुजम का जन्म 22 दिसंबर 1887 में तमिलनाडु के इरोड में एक साधारण अयंगर ब्राह्मण परिवार में हुआ था। बाल्यावस्था में ही उन्होंने गणित के क्षेत्र में अपनी रुचि विकसित कर ली थी। 12 वर्ष की उम्र में ही उन्होंने टीगनोमेंटी में महारत हासिल कर ली थी। हालांकि गणित के इतर अन्य विषयों में उनकी रुचि न होने के कारण वे औपचारिक शिक्षा ग्रहण नहीं कर पाए थे लेकिन 32 वर्ष के अपने छोटे से जीवनकाल में गणित के क्षेत्र में उन्होंने जिन प्रमेयों का प्रतिपादन किया उसे सिद्ध करने के लिए पूरे विश्व के गणित के विद्वान आज भी लगे हुए हैं। रामानुजम का गणित में अनंत श्रेणी, सतत फलन , नबंर सिस्टम और मैथमेटिकल एनालिसिस में महत्वपूर्ण योगदान है। रामानुजम के शोध कार्यों का भौतिकी, रसायन सहित कंप्यूटर साइंस एवम दूरसंचार के क्षेत्र में भी उयोग हो रहा है।

ब्रिटिश गणितज्ञ प्रो. हार्डी की भूमिका

रामानुजम के जीवन में ब्रिटिश गणितज्ञ प्रो हार्डी की भूमिका बहुत ही मत्वपूर्ण साबित हुई। रामानुजम जब मद्रास पोर्ट ट्रस्ट में एक क्लर्क की नौकरी कर रहे थे तो उनके एक सहकर्मी ने रामानुजम के गणित (Ramanujam’s Mathematics) से सम्बन्धी उनके कुछ कार्यों को प्रोफेसर हार्डी के पास भेजा। उन्होंने उनको भेजे गए रामानुजम के शोध कार्य देखे तो दंग रह गए और उन्हें इंग्लैंड बुला लिया जहाँ पर रामानुजम ने अपना शोध कार्य जारी रखा। 1917 में रामानुजम लंदन मैथमेटिकल सोसाइटी के लिए चयनित किये गए। 1918 में रॉयल सोसाइटी में फेलो भी चुने गए। रामानुजम को नंबर थ्योरी अर्थात संख्याओं से विशेष लगाव था। यही कारण है कि उन्हें संख्याओ के अनन्य साधक की उपाधि दी जाती है। कहते हैं कि अपने जीवन के अंतिम समय में जब वे अस्पताल में भर्ती थे तो उन्हें देखने प्रो हार्डी गए। उन्होंने रामानुजम से कहा कि वह जिस टैक्सी में आये हैं उसका नंबर 1729 था, और उनके अनुसार यह कोई महत्वपूर्ण संख्या नहीं है। यह सुनते ही रामानुजम ने एकदम से कहा, नहीं हार्डी! यह तो बहुत ही रोचक संख्या है। यह एक ऐसी सबसे छोटी संख्या है जिसे दो अलग अलग नबंरो के घनों के योग के रूप में प्रदर्शित जा सकता है।

1729 को 10 और 9 तथा 12 और 1 के क्यूबस (cubes)के योग के रूप में लिखा जा सकता है।

सन 2012 में रामानुजम के जन्म के 125 वर्ष पूरे होने पर सरकार द्वारा उनके जन्म दिवस 22 दिसंबर को राष्ट्रीय गणित दिवस के रूम में मनाने की घोषणा की गई। तब से प्रतिवर्ष हम इस महान गणितज्ञ की जयंती राष्ट्रीय गणित दिवस के रूप में मनाते है। हालाँकि, हमे रामानुजम के कार्यों पर शोध को बढ़ावा देने तथा छात्रों में गणित और विज्ञान विषयों में रुचि विकसित करने के लिए विशेष प्रयास की जरूरत है ताकि हम विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में एक बार फिर से महाशक्ति बनकर उभरे और दुनिया को नेतृत्व प्रदान कर सकें।

यहां से शेयर करें
Previous post साल का स्वागतः एक लाख के इनामी को किया ढेर
Next post कौटिल्या की पुस्तक में 40 प्रकार भ्रष्टाचार