सड़क दुर्घटनाएं कम करनी है तो करें ट्रैफिक नियमों का पालनः कमिश्नर

उत्तर प्रदेश में नवंबर माह को यातायात माह के रूप में मनाया जाता है। इसका उदेश्य है कि यातायात माह नवंबर में लोगों को इतना जागरूक किया जाएं ताकि सड़क दुर्घटनाएं कम की जा सके। पूरे महीने यातायात पुलिस,स्कूली छात्रों,एनसीसी कैडेट द्वारा स्कूल,कालेज तथा विभिन्न स्थानों पर आमजन को यातायात नियमों का पालन करने के लिए कार्यक्रम प्रस्तुत कर यातायात नियमों के बारे में जागरूक किया जाता है।
यातायात माह की शुरूआत पुलिस आयुक्त कार्यालय सेक्टर 108 में यातायात जागरूकता कार्यक्रम व रैली का आयोजन किया गया। इस मौके पर पुलिस कमिश्नर आलोक सिंह ने दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम की शुरुआत की। साथ ही ट्रैफिक पार्क में स्थित नमूना रेल को हरी झंडी दिखाकर ट्रैफिक पार्क का उद्घाटन किया गया। लोगों को संबोधित करते हुए पुलिस कमिश्नर आलोक सिंह ने कहा कि हर नागरिक का दायित्व है कि वह यातायात नियमों का पालन करें, यातायात नियमों का सभी के गंभीरता से पालन करेंगे तो शायद दुर्घटनाओं में काफी कमी आएगी। इस माह के दौरान यातायात नियमों के प्रति लोगों को जागरूक करने के साथ ही बच्चों के माध्यम से भी लोगों को यातायात के नियमों के संबंध में जानकारी देने का काम किया जाएगा। यह सिर्फ एक यातायात माह नहीं बल्कि एक मिशन है जो आगे भी जारी रहेगा।


छात्रों के असाइनमेंट की सराहना की
यातायात जागरूकता कार्यक्रम में लगभग 300 स्कूली छात्रो तथा एनसीसी के 20 कैडेट ने प्रतिभाग किया गया जिसमें छात्रों द्वारा यातायात के सम्बन्ध में कार्यक्रम प्रस्तुत किया गया तथा पुलिस कमिश्नर आलोक सिंह द्वारा यातायात नियमों के पालन के सम्बन्ध मे छात्रो द्वारा लाये गए असाइंनमेंट को देखा तथा छात्रों द्वारा बनाकर लाये गये असाइनमेंट की सराहना की गयी।’

लगाए ट्रैफिक स्टॉल
इस दौरान ट्रैफिक स्टॉल लगाये गये जिनमें यातायात सम्बन्धी उपकरण जैसे स्पीड राडार,बॉडी वार्न कैमरे,डेसीबल आदि उपकरणों के सम्बन्ध में छात्रो को पूरी जानकारी दी गई। छात्रो ने सभी उपकरणों को ध्यान पूर्वक देखा तथा यातायात पुलिस कर्मियों से उपकरणों के सम्बन्ध में जानकारी ली गयी। यातायात जागरूकता कार्यक्रम में पुलिस कमिश्नर आलोक सिंह द्वारा मैपल एप मैप माय इंडिया की टीम से मैपल ऐप के माध्यम से यातायात एडवाइजरी व यातायात की अपडेट के सम्बन्ध में फीड बैक भी लिया गया।

कार्यक्रम का उदेश्य
’इस यातायात जागरूकता कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य छात्रों, नागरिकों आदि को यातायात के नियमों के प्रति जागरूक करना था ताकि हम अपने आस पड़ोस में भी ऐसे जागरूकता अभियान चलाकर लोगों में जागरूकता ला सके जिससे सड़क दुर्घटनाओं में होने वाली जानमाल की क्षति में अप्रत्याशित कमी लाई जा सके जोकि हम सभी का बराबर का दायित्व है।’
’इस कार्यक्रम में अपर पुलिस आयुक्त मुख्यालय भारती सिंह,पुलिस उपायुक्त यातायात गणेश प्रसाद तथा अन्य अधिकारीगणों के साथ फेलिक्स अस्पताल के निदेशक डा. डी.के. गुप्ता, हेलमेट मेन राघवेंद्र, एनजीओं तथा अन्य गणमान्य नागरिक मौजूद रहे।’

Previous post 11 हजार से ज्यादा कर्मचारियों जुकरबर्ग ने कहा- Sorry
Next post इमरान ने लिखा दिल चीर के दिखलाऊं वतन का नक्शा, मेरा भारत मेरी सांसों में समाया हुआ है…