कान्हा से द्वारिकाधीश बनने तक बांके बिहारी की हर लीला है अद्भुत 

हर साल भाद्रपद मास की कृष्ण पक्ष की अष्टमी की कन्हैया का जन्मोत्सव दुनियाभर में मनाया जाता है। भगवान श्रीकृष्ण ने द्वापरयुग में धरती पर जन्म लिया। भगवान श्रीकृष्ण को श्रीहरि का आठवां अवतार कहा जाता है

हर साल भाद्रपद मास की कृष्ण पक्ष की अष्टमी को कन्हैया का जन्मोत्सव दुनियाभर में मनाया जाता है। भगवान श्रीकृष्ण ने द्वापरयुग में धरती पर जन्म लिया। भगवान श्रीकृष्ण को श्रीहरि का आठवां अवतार कहा जाता है। भगवान श्रीकृष्ण नारायण के पूर्ण अवतार हैं। पृथ्वी पर जन्म लेने के बाद कृष्ण अवतार में भगवान ने बहुत सी लीलाएं की। कान्हा से लेकर द्वारिकाधीश बनने तक उन्होंने कठिन सफर तय किया। 

भगवान श्रीकृष्ण 64 कलाओं में निपुण हैं। उन्होंने ये 64 कलाएं गुरु संदीपनि से 64 दिनों में सीख लीं थीं। भगवान श्रीकृष्ण के कुल 108 नाम हैं। भगवान श्रीकृष्ण की दूसरी माता का नाम रोहिणी था। रोहिणी के पुत्र का नाम बलराम था जो कि शेषनाग के अवतार थे। भगवान श्रीकृष्ण के धनुष का नाम सारंग और अस्त्र का नाम सुदर्शन चक्र था। भगवान श्रीकृष्ण की गदा को कौमोदकी और शंख को पांचजन्य कहते थे। भगवान श्रीकृष्ण ने सुदर्शन चक्र का इस्तेमाल शिशुपाल को मारने के लिए और सूर्यास्त का भ्रम पैदा करने के लिए भी किया। भगवान श्रीकृष्ण के रथ का नाम जैत्र था। उनके सारथी का नाम दारुक बाहुक था। उनके घोड़ों का नाम शैव्य, सुग्रीव, मेघपुष्प और बलाहक था। कलारीपट्टु का प्रथम आचार्य श्रीकृष्ण को माना जाता है। इसी कारण नारायणी सेना सबसे प्रहारक सेना थी। भगवान श्रीकृष्ण देखने में अति सुंदर हैं और नयनाभिराम कहलाते हैं। भगवान श्रीकृष्ण का रंग मेघश्यामल था और उनके शरीर से मादक गंध निकलती थी। भगवान श्रीकृष्ण अंतिम वर्षों को छोड़कर कभी भी द्वारिका में छह माह से अधिक नहीं रहे। भगवान श्रीकृष्ण के पुत्र प्रद्युम्न, कामदेव के अवतार थे। कर्ण वह पहले व्यक्ति थे जो श्रीकृष्ण के जन्म का रहस्य जानते थे। रासलीला में श्रीकृष्ण ने गोपियों के साथ नृत्य किया और गोपियों ने सोचा कि वह अकेले भगवान के साथ नृत्य कर रही हैं। कहा जाता है कि दही हांडी मनाने में गोविंदा माखन चुराने वाले बाल कृष्ण के प्रतीक हैं और उन्हें रोकने के प्रयास में पानी फेंकने वाले ब्रज की गोपियों का प्रतीक हैं।

Previous post उकसाने से बाज नहीं आ रहा ड्रैगन, ताइवान की सीमा में फिर घुसे 51 चीनी युद्धक विमान
Next post एससीओ में भारत का डंका: ये संगठन कितना ताकतवर है?