कांग्रेस प्रवक्ता पद के लिए हुआ टेस्ट, पूछे ये सवाल

कांग्रेस की ओर से उत्तर प्रदेश का प्रवक्ता बनने के लिए लिखित परीक्षा में 14 सवाल पूछे गए थे. लगभग  70 लोगों ने यह परीक्षा दी. उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी की ओर ये यह परीक्षा गुरूवार को आयोजित हुई. आपको बतादे कि परीक्षा में यह कुछ वो सवाल हैं जो पुछे गये . योगी आदित्यनाथ सरकार की ‘असफलताएं’ क्या हैं? मनमोहन सिंह सरकार की ‘सफलताएं’ क्या थीं? कितनी विधानसभा सीटों से कितनी लोकसभा सीटें बनती हैं.
यह पूरा टेस्ट पार्टी की राष्ट्रीय प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी और राष्ट्रीय मीडिया को-आर्डिनेटर राहुल गुप्ता की देखरेख में हुआ. प्रदेश इकाई के मुखिया राजबब्बर ने हाल ही में मीडिया टीम भंग कर दी. उम्मीदवारों के लिए टेस्ट चौंकाने वाला रहा क्योंकि गुरूवार को उन्हें पहले से नहीं बताया गया था. वहीं उन्हें सिर्फ यह बताया गया था कि गुरूवार को एक ‘महत्वपूर्ण मीटिंग’ है. प्रियंका चतुर्वेदी ने कहा, ‘ऐसे टेस्ट नए नहीं हैं और यह कांग्रेस में होता रहा है. अब हम यूपी में भी इसी तरह का टेस्ट कर रहे हैं. यह कहना गलत होगा कि टेस्ट में मुश्किल प्रश्न पूछे गए थे. ये बुनियादी प्रश्न हैं जिसका एक प्रवक्ता को जवाब आना चाहिए. पीसीसी की नई मीडिया टीम एआईसीसी मीडिया टीम की तरह काम करेगी.’

एक नजर टेस्ट में पूछे गए कुछ प्रश्नों पर

01.उत्तर प्रदेश में कितने ब्लॉक और क्षेत्र हैं?
02.लोकसभा चुनाव में यूपी में कितने सीटें आरक्षित हैं?
03. 2004 और 2009 में कांग्रेस ने कितनी सीटें जीतीं?
04.  2014 लोकसभा और 2017 विधानसभा चुनावों में कांग्रेस को वोट शेयर का प्रतिशत क्या था?
05. यूपी में कितनी लोकसभा और विधानसभा सीटें हैं?
06. यूपी में कितनी असेंबली सीटें, एक लोकसभा सीट बनाती हैं?
07. नियमों के मुताबिक कितने लोकसभा सीटों कम या ज्यादा विधानसभा सीटें हो सकती हैं?
08. योगी आदित्यनाथ सरकार की विफलता के प्रमुख मुद्दे क्या हैं?
09.  मनमोहन सिंह सरकार की उपलब्धियां क्या थीं?
10.आज तीन मुख्य खबरें क्या हैं जिन पर कांग्रेस के प्रवक्ता बयान जारी कर सकते हैं?
11. आप एक प्रवक्ता बनना क्यों चाहते हैं?

सूत्रों कि माने न तो  टेस्ट और साक्षात्कार आने वाले दिनों में यूपी कांग्रेस कमेटी  (UPCC) में बदलाव के लिए तैयार है. पार्टी एक नए राज्य प्रभारी का भी नाम दे सकती है. नए प्रभारी से UPCC को मजबूत करने की उम्मीद होगी. नए प्रभारी पर 209 के लोकसभा चुनावों से पहले बसपा और समाजवादी पार्टी के साथ समन्वय बनाए रखने का भी दारोमदार होगा

यहां से शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Previous post  रामगोपाल के जन्मदिन पर शिवपाल ने काटा केक
Next post सीएम दरबार में बोली शिक्षिका भ्रष्ट राजनीति के खिलाफ उठाऊंगीं आवाज