शरिया अदालतों के पक्ष में हामिद अंसारी

हर समुदाय के अपने नियम हो सकते हैं
नई दिल्ली। शरिया अदालत बनाने को लेकर पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने कहा है कि कानून इस बात को मान्यता देता है कि हर समुदाय के अपने नियम हो सकते हैं। उन्होंने एक टीवी चैनल से कहा कि लोग सामाजिक परंपराओं और कानूनी व्यवस्था के बीच भ्रम में पड़ रहे हैं।  पिछले हफ्ते ऑल इंडिया पर्सनल लॉ बोर्ड ने कहा था कि वह इस्लामी कानूनों से जुड़े मुद्दों के सुलझाने के लिए शरिया अदालत बनाने पर विचार कर रहा है। हालांकि सरकार ने इस प्रस्ताव का विरोध किया है। अभी हाल में अंसारी ने अपने विदाई कार्यक्रम में पीएम नरेंद्र मोदी की उस टिप्पणी का मुद्दा उठाया जिसमें उन्होंने अंसारी के नजरिए में एक निश्चित झुकाव के बारे में संकेत दिया था। दस अगस्त 2017 अंसारी का उपराष्ट्रपति व राज्यसभा के सभापति के तौर पर दूसरे कार्यकाल का आखिरी दिन था। परंपरा के मुताबिक पार्टियां और उसके सदस्य सभापति को धन्यवाद देते हैं। अंसारी ने कहा, प्रधानमंत्री ने इसमें भाग लिया और मेरी पूरी तारीफ करने के दौरान उन्होंने मेरे नजरिए में एक निश्चित झुकाव के बारे में भी संकेत दिया। उन्होंने मुस्लिम देशों में राजनयिक के तौर पर मेरे कामकाज और अल्पसंख्यकों से जुड़े सवालों की चर्चा की। इस पर अंसारी ने कहा, ‘इसका अर्थ संभवत: बेंगलूरू में मेरे भाषण के बारे में था जिसमें मैंने असुरक्षा की बढ़ी भावना का जिक्र किया था और टीवी इंटरव्यू में मुस्लिमों व कुछ अन्य धार्मिक अल्पसंख्यकों में डर के बारे में बात की थी।

यहां से शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Previous post मां निकली हत्यारन
Next post प्रेमी के साथ मिलकर पति को उतारा मौत के घाट