जमीन घोटाले में तत्कालीन ग्रेनो प्राधिकरण के मेनेजर समेत तीन गिरफ्तार

भ्रष्टाचार और घोटालों पर योगी सरकार किसी भी तरह समझौते के लिए तैयार नहीं है। राजनीति में कद्दावर एवं भाजपा के एमएलसी नरेंद्र भाटी के छोटे भाई एवं ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण तत्कालीन मेनेजर कैलाश भाटी को तुस्याना भूमि घोटाले के मामले में गिरफ्तार कर लिया है। दोनों को पूछताछ के लिए एसआईटी ने बुलाया था जिसके बाद पुलिस को एसआईटी ने दोनों को गिरफ्तार करने के लिए आदेश दे दिया। इस मामले में रिपोर्ट पहले ही दर्ज कराई जा चुकी थी। एडीसीपी कानून व्यवस्था अनिल यादव ने बताया कि गलत तरीके से कई जमीन के पट्टे करने और मुआवजा दिलवाने का खेल इन अधिकारियों और कर्मचारियों ने रचा था। हालांकि इनके अलावा और किस-कस की भूमिका है। इस पर भी जांच चल रही है।
मिली जानकारी के अनुसार प्रबंधक कैलाश भाटी जिस वक्त ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण में तैनात थे उस दौरान उन्होंने कई जमीन घोटाले में अहम भूमिका निभाई। कई महीनों से जमीन घोटाले के मामले में जांच की जा रही थी। आज सुबह जांच करने वाली एसआईटी ने जूनियर असिस्टेंट कमल और दीपक को भी पूछताछ के लिए बुलाया। पूछताछ में पाया गया कि दीपक ने अपनी पत्नी के नाम पट्टा कराया था। इस मामले में जब एसआईटी को पुख्ता जानकारी मिल गई थी ।
ये तीनों दोषी है तो उन्होंने तत्काल इनकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस को आदेश दे दिए कैलाश भाटी फिलहाल कानपुर यूपी सीडा में तैनात है
थाना इकोटेक -3 पुलिस व एसआईटी टीम द्वारा संयुक्त रूप से कार्यवाही करते हुये तुस्याना भूमि घोटाले में संलिप्त 03 अभियुक्तों 1.दीपक पुत्र राजेन्द्र सिंह निवासी मकोडा थाना सूरजपुर जिला गौतमबुद्धनगर को उसके निवास ग्राम मकोडा थाना सूरजपुर से गिरफ्तार किया गया व अभियुक्त कैलाश भाटी पुत्र स्व0 श्री प्रेम सिंह निवासी 5-502 पुटिंग ग्रीन ओमेक्स एनआरआइ0 सिटी थाना बीटा -2 गौतमबुद्धनगर को उसके निवास 5-205 पुटिंग ग्रीन ओमैक्स एनआरआई सिटी थाना बीटा 2 से व अभियुक्त कमल सिंह पुत्र स्व0 जसवन्त सिंह निवासी बरौला थाना सेक्टर 49 नोएडा जनपद गौतमबुद्धनगर को अपराध शाखा पुलिस कार्यालय सूरजपुर से गिरफ्तार किया गया है। अभियुक्तगण थाना इकोटेक 03 के मु0अ0सं0 98/2021 धारा 420,406,467,468,471,120बी भादवि भादवि में वाँछित चल रहे थे।

यहां से शेयर करें
Previous post रामपुर में आसिम रजा बने सपा उम्मीदवार
Next post Gujrat: हाईकोर्ट ने मोरबी नगरपालिका को लगाई फटकार, 10 सालों के लिए महेरबानी क्यों