उकसाने से बाज नहीं आ रहा ड्रैगन, ताइवान की सीमा में फिर घुसे 51 चीनी युद्धक विमान

ताइवान, चीन के राजनीतिक नियंत्रण को स्वीकार करने के दबाव का विरोध करता रहा है। कुछ दिनों पहले ही चीनी जहाजों और विमानों की ओर से ताइवान के समुद्री और हवाई क्षेत्र में मिसाइलें दागी गई थीं। 

चीन और ताइवान के बीच खड़ा हुआ विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। ताइवान ने एक बार फिर चीनी विमानों के उसकी सीमा में घुसपैठ का आरोप लगाया है। ताइवानी अधिकारियों ने दावा किया कि 51 चीनी युद्धपोतों, 6 वॉरशिप्स और 25 चीनी लड़ाकू बमवर्षक ने एयर डिफेंस आइडेंटिफिकेशन जोन (ADIZ) को तोड़ दिया। अधिकारियों ने कहा कि इन चीनी विमानों ने देश के पूर्व इलाके के ऊपर से उड़ान भरी। 

ताइवान की सीमा के पास से जिन 25 युद्धक विमानों ने उड़ान भरी, उनमें 12 सुखोई एसयू -30 लड़ाकू जेट, 6 शेनयांग जे-16 लड़ाकू जेट, 4 चेंगदू जे-10 लड़ाकू जेट, 2 जियान एच-6 बमवर्षक और एक शानक्सी Y-8 इलेक्ट्रॉनिक युद्धक विमान शामिल हैं। वहीं, ताइवान की ओर से इसे लेकर रेडियो वार्निंग जारी की गई। साथ ही घुसपैठ पर नजर रखने के लिए वायु रक्षा मिसाइल प्रणाली को अलर्ट कर दिया गया।

ताइवान भी कर रहा सैन्य अभ्यास

चीनी विमानों के घुसपैठ की यह खबर ताइवान के सैन्य अभ्यास के बीच आई है। ताइवान स्वशासित द्वीप पर चीन के राजनीतिक नियंत्रण को स्वीकार करने के लिए बीजिंग के दबाव का विरोध करता रहा है। कुछ दिनों पहले ही चीनी जहाजों और विमानों की ओर से ताइवान के समुद्री और हवाई क्षेत्र में मिसाइलें दागी गई थीं। 

चीन के सैन्य उकसावे की कार्रवाई की कड़ी निंदा

ताइवान के रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता सुन ली-फेंग ने कहा था कि हम ताइवान के समुद्री और हवाई क्षेत्रों के आसपास कम्युनिस्ट चीन के लगातार सैन्य उकसावे की कार्रवाई की कड़ी निंदा करते हैं, जो क्षेत्रीय शांति को प्रभावित करता है। उन्होंने कहा कि कम्युनिस्ट चीन के सैन्य अभियान हमें युद्ध के लिए तैयारी के प्रशिक्षण का अवसर प्रदान करते हैं।

Previous post  पंजाब नेशनल बैंक में मैनेजर और ऑफिसर के पदों पर निकली वैकेंसी, 103 पदों होगी नियुक्ति
Next post ओडिशा में भारी बारिश के बीच तटीय जिलों में हाई अलर्ट, बाढ़ झेल रहे इलाकों में बिगड़ेंगे हालात