वेव ग्रुप पर शिकंजा, ईडी ने कराई सबूत मिटाने की एफआईआर

 

दिल्ली की शराब पॉलिसी के मामले में जांच पड़ताल कर रही एनफोर्समेंट डायरेक्टरेट ईडी ने आज सेक्टर 39 थाने में वेव ग्रुप के डायरेक्टर फांइनेश एचएस कंधारी के खिलाफ सुबूत मिटाने एवं छेड़छाड़ करने का मामला दर्ज कराया है। बताया जा रहा है कि जिस दिन ईडी ने वेव ग्रुप के अलग-अलग अधिकारियों के यहां छापेमारी की थी, उस एचएस कंधारीघर भी छापा मारा गया था। इस छापेमारी के दौरान ईडी की ओर से जब कंधारी और उनकी पत्नी का मोबाइल फोन मांगा गया तो दोनों ने जवाब दिया कि फोन खो गया है। उस वक्त ईडी की टीम शांत रही लेकिन उन्होंने अपनी जांच नहीं छोड़ी जांच के दौरान पता चला कि दोनों मोबाइल फोन एक ही लोकेशन में आकर बंद हुए हैं। सूत्र बता रहे हैं कि पति-पत्नी के फोन खोनेे की सूचना थाना फेस वन मैं दी गई थी जिसके बाद पुलिस ने उसे जीडी में भी रिकॉर्ड किया था। बताया जा रहा है कि दोनों के मोबाइल में महत्पूर्ण जानकारी थी। देखना यह है कि अब ईडी की जांच में वेव ग्रुप के एचएस कंधारी के अलावा और कौन-कौन सामने आएगा। उल्लेखनीय है कि केजरीवाल सरकार ने दिल्ली में आबकारी नई नीति लागू की जिस नीति के तहत दिल्ली को अलग-अलग जोन में बांटा गया। यहां मुख्य रूप से वेव ग्रुप और हैदराबाद की कंपनी ने टेंडर लिया था। जब दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के खिलाफ ईडी ने इस मामले को लेकर जांच शुरू की तब जाकर कई दिग्गज बिजनेसमैन पर हाथ डाला गया। हालांकि केजरीवाल कह चुके हैं कि आबकारी नीति में किसी प्रकार का घोटाला नहीं हुआ है यदि हुआ है तो ईडी ने सिसोदिया को गिरफतार क्यों नही किया।

Previous post हरियाणा के शमशान घाटों के चारों तरफ सरकार लगायेगी पेड़ – कंवरपाल 
Next post पीएम मोदी के प्रयासों से भारत और अफ्रीका के संबंध एक नई ऊंचाइयों परः योगी
Enable Notifications OK No thanks