निवेशकों का आकर्षण बना यमुना प्राधिकरण

0
5

ग्रेटर नोएडा। कोरोना संकटकाल में जहां लोग बीमारी से बचने के लिए घर से बाहर निकलने से कतरा रहे थे वही आपदा को अवसर में बदलते हुए यमुना प्राधिकरण की ओर से निवेश के साथ-साथ रोजगार सृजन के लिए योजना लाई गई और कांटेक्ट लेंस तरीके से साक्षात्कार के जरिए भूखंड आवंटित किए गए।
एक समय था जब यमुना प्राधिकरण में निवेश करने के लिए लोग कतरा रहे थे मगर अब एयरपोर्ट और फिल्म सिटी की घोषणा के बाद यमुना प्राधिकरण क्षेत्र में भूखंड लेने के लिए उद्योगपति आकर्षित हुए हैं। हालात ही आ गई है कि जहां चुनिंदा आवेदक होते थे अब चुनिंदा प्लॉट के लिए कई गुना आवेदक होते हैं यदि ग्रेटर नोएडा और नोएडा की बात करें तो स्कीम यहां भी निकली नोएडा प्राधिकरण की ओद्योगिक की योजना के तहत भूखंड हाथों-हाथ लिखते चले गए। मगर ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण क्षेत्र में निवेश के प्रति लोगों की रूची कम होती नजर आ रही है।
प्राधिकरण की कई ऐसी योजनाएं हैं जिनके लिए उन्हें आवेदक मिलना मुश्किल हो गया। लोगों को अब यमुना प्राधिकरण की औद्योगिक योजना दोबारा से शुरू होने का इंतजार है ताकि वह भविष्य के शहर यमुना सिटी में निवेश कर सकें। प्राधिकरण के सीईओ डॉक्टर अरुण वीर सिंह का कहना है कि जल्द ही औद्योगिक भूखंडों के लिए योजना दोबारा शुरू की जाएगी। उन्होंने बताया कि लोगों में काफी उत्साह है।