कम पैसे में आज से सरकारी अस्पताल में डायलिसिस शुरू

0
21

नोएडा। जिला अस्पताल में आज से डायलिसिस कम पैसे में शुरू कर दी गई है। इसका उद्घाटन बीते दिन प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह डायलिसिस यूनिट का शुभारंभ किया था। उन्होंने फीता काटकर यूनिट शुरू की। इसके बाद जिला अस्पताल का निरीक्षण कर मरीजों का हाल जाना। निजी अस्पतालों में डायलिसिस कराने के लिए मरीजों को अत्यधिक भुगतान करना पड़ता है यह उन लोगों के लिए वरदान साबित होगी जिन लोगों के पास इलाज कराने तक के प्रर्याप्त पैसे नहीं होते।
मंत्री जय प्रताप सिंह ने कहा कि लोग सरकार की सुविधाओं का पूरी तरह इस्तेमाल करें। इसका उद्घाटन करने के बाद मंत्री जय प्रताप सिंह सेक्टर-39 स्थित कोविड अस्पताल पहुंचे। वहां अस्पताल का निरीक्षण कर मरीजों से ऑनलाइन संवाद किया। मरीजों से मिलने वाली सहूलियत के बारे में जाना। होम आइसोलेशन में जिले में 433 मरीज हैं। उन्होंने एक मरीज से ऑनलाइन बातचीत भी की। उन्होंने कहा कि डा. कोरोना मरीजों को गंभीरता से देख रहे है। डाक्टर पूरी से सेफ्टी के साथ मरीजों को दिन में तीन चार बार देखने के लिए जाते है।
गाजियाबाद सीएमओ की लापरवाही से स्वास्थ्य मंत्री नाराज
मंत्री के संज्ञान में आया कि मंगलवार शाम यूपी गेट बॉर्डर पर 97 लोगों की रैंडम जांच की गई। एक संक्रमित बुजुर्ग को बस में बिठाकर भेज दिया गया। इससे अन्य यात्रियों में संक्रमण का खतरा पैदा हो गया। इस पर स्वास्थ्य मंत्री ने नाराजगी जताते हुए जवाब तलब करने की बात कही।
पर्यवेक्षकों ने भी अपनी रिपोर्ट
जनपद में हाल में शासन से तीन पर्यवेक्षक भेजे गए थे। इनमें एक आईएएस अफसर और दो वरिष्ठ चिकित्सीय अधिकारी शामिल रहे। पर्यवेक्षकों ने अपनी रिपोर्ट शासन को सौंप दी है। रिपोर्ट के आधार पर स्वास्थ्य मंत्री ने कार्रवाई की बात कही। वहीं कोरोना संक्रमण के बारे में उन्होंने कहा कि एक मरीज के सापेक्ष 15 से 25 संपर्कों की तलाश की जा रही है। कांट्रेक्ट ट्रेसिंग बढ़ाने के कारण ही प्रदेश सरकार कोरोना पर काबू पाने में सफलता हासिल कर पाई है। मार्च से अभी तक प्रदेश में 5,35,335 केस हैं। इसमें 5,00,835 मामले ठीक हो गए हैं। इस समय सूबे की रिकवरी दर 94.07 है। वहीं, 7644 संक्रमितों की मौत हुई है।