ईडी ने अधिकारियों को भेजे नोटिस

0
42

नोएडा। विद्युत विभाग में हुई हेराफेरी को लेकर ईडी ने जांच शुरू कर दी। कई अधिकारियों को नोटिस भेजे गए है। फरवरी 2020 में निगम के खाते में जमा हुए 54 लाख रुपये का मामला फिर तूल पकड़ रहा है।
प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने मामले का संज्ञान लेते हुए प्रकरण में निलंबित हुए अधिशासी अभियंता समेत तीन अफसरों को नोटिस जारी किया है।
बताया जा रहा है कि ईडी की टीम जल्द ही नोएडा पहुंचकर पूरे प्रकरण की जांच करेगी। खास बात यह है कि विभागीय अधिकारी आज तक इस बात का पता नहीं लगा सके हैं कि निगम के खाते में 54 लाख रुपये कहां से आए थे।
उल्लेखनीय है कि फरवरी 2020 में सेक्टर-18 अधिशासी अभियंता द्वितीय संजय शर्मा के कार्यकाल के दौरान विद्युत निगम के नामी सरकारी बैंक खाते में कहीं से 54 लाख रुपये जमा किए गए थे। कई माह तक रुपये की जानकारी न मिलने पर निगम अधिकारियों ने गड़बड़ी की संभावना जताते हुए अधिशासी अभियंता संजय शर्मा, हेड कैशियर महेश शर्मा और सहायक लेखाधिकारी राम रतन सुमन को निलंबित कर दिया था, हालांकि निलंबित होने से कुछ दिनों पहले ही सहायक लेखाधिकारी राम रतन की पदोन्नति मेरठ कार्यालय हो गई थी। प्रकरण की जांच अधीक्षण अभियंता द्वितीय बीएल मौर्य ने की। उन्होंने मेरठ मुख्यालय को रिपोर्ट सौंपते हुए सेक्टर-20 कोतवाली में रिपोर्ट दर्ज कराई थी। मेरठ मुख्यालय की टीम ने भी मामले में जांच की। कारण स्पष्ट न होने के बाद एमडी ने प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) को पत्र लिखा। अब ईडी ने मामले का संज्ञान लेते हुए फिर जांच शुरू कर दी है।
उन्होंने निलंबित अधिशासी अभियंता समेत तीन कर्मचारियों को नोटिस जारी कर दो सप्ताह में जवाब मांगा है।