• Google

कमाई जस की तस, बढ़ रही बच्चों की स्कूल फीस

By: khan.shaheen
21-04-2017 14:44:33 PM

स्कूलों की मनमानी के खिलाफ जय हिन्द जनाब की चल रही मुहिम रंग ला रही है। जागरूक पाठक और स्कूलों से परेशान अभिभावक स्कूलों के कारनामें सामने ला रहे हैं।


नोएडा। कॉन्वेंट स्कूल लगातार फीस बढ़ाते ही जा रहे हैं। अलग-अलग एक्टिविटीज के नाम पर छात्रों से रुपए वसूले जाते हैं। जय हिन्द जनाब को ईमेल और ङ्खद्धड्डह्लह्य्रश्चश्च पर दर्जनों लोगों ने जानकारी दी है कि उनकी कमाई वही है लेकिन स्कूलों की फीस बढ़ती जा रही है, जिसके चलते बच्चों को पढ़ाना बेहद मुश्किल हो गया है। अब वह यही सोच रहे हैं कि एक बच्चे को पढ़ाएं जबकि दूसरे को काम सिखाएं, इतना ही नहीं स्कूल प्रबंधन की कारगुजारियां और भी ज्यादा निकल कर सामने आने लगी हैं। कुछ स्कूल बच्चों पर अलग-अलग एक्टिविटीज में भाग लेने के लिए कहते हैं उसके बाद यदि बच्चा मना करता है तो फिर भी उसके परिजनों पर रुपए लेने के लिए दबाव बनाया जाता है।
कुल मिलाकर स्कूल अब लूट का अड्डा बन चुके हैं। हमें पता चला है कि असीसी कॉन्वेंट स्कूल में भी फीस बढ़ा दी गई है। हमने कल के अंक में लिखा था असीसी कॉन्वेंट अन्य स्कूल के मुकाबले काफी सस्ता है और यहां अलग-अलग मदोंं के लिए पैसा नहीं लिया जाता जबकि हमारे एक पाठक ने बताया कि उनके दो बच्चे हैं और पिछले 6 महीने में फीस लगभग डबल हो चुकी है।

 

 

 

एक्शन में आया सीबीएसई बोर्ड

नई दिल्ली। स्कूलों की मनमानी के खिलाफ लगातार हो रहे विरोध-प्रदर्शन रंग लाने लगा है। सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकंड्री एजुकेशन (ष्टक्चस्श्व) तमाम स्कूलों को आदेश जारी कर दिया है कि कोई भी स्कूल किसी विशेष दुकान से किताबें, जूते, टाई, ड्रेस तथा अन्य सामान छात्रों को खरीदने के लिए न कहे और न ही किसी तरह का दबाव डाले। जो छात्र जहां से चाहे वहां से किताबें खरीद सकता है। सभी स्कूल एनसीईआरटी की ही किताबें पढ़ाएं। जय हिन्द जनाब ने भी लगातार इस मुद्दो को उठाता रहा है।

जय हिन्द जनाब को मिल रही प्रतिक्रियाएं


मेरे दो बच्चे हैं जिनकी फीस छह महीने पहले करीब 38 हजार रुपए थी मगर अब बढ़कर 62 हजार रुपए हो गई। जिसके चलते दोनों बच्चों को बढ़ाने में असमर्थ हूं और कमाई वही है।
     अभिभावक, नोएडा
पेशे से वकील हूं बच्चों को अच्छे स्कूल में पढ़ाने की ख्वाहिश है लेकिन फीस के साथ अन्य एक्टिविटी चार्ज भरने की हैसियत नहीं है।
    -अभिभावक, गाजियाबाद
मैं चाहता हूं मेरे बच्चे भी कांवेंट स्कूल में पढ़े मगर जल्दी फीस बढ़ोतरी इस ख्वाहिश को पूरा करने नहीं देती।  
    -अभिभावक, सलारपुर

स्कूलों की मनमानी से परेशान अभिभावक हमें बताएं। इससे जुड़ी खबरों को प्रमुखता से प्रकाशित किया जाएगा।
व्हाट्सएप नंबर
9311220786
 


Create Account



Log In Your Account