• Google

योगी सरकार का बड़ा फैसला : आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे की होगी जांच

By: khan.shaheen
21-04-2017 14:40:31 PM

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सत्ता संभालते ही पूरी तरह एक्शन में दिख रहे हैं। सीएम ने भ्रष्टाचार के खिलाफ अपनी जीरो टोलेरेंस की नीति को अपनाते हुए पूर्ववर्ती अखिलेश सरकार की कई प्रोजेक्ट्स में कथित तौर पर हुए वित्तीय अनियमितताओं के मामले में जांच के आदेश दे रहे हैं। इसी क्रम में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अखिलेश के ड्रीम प्रोजेक्ट लखनऊ-आगरा एक्सप्रेसवे के लिए अधिगृहित की गई जमीन और बांटे गए मुआवजे के जांच का आदेश दिए हैं।
इसके लिए 10 जिलों के जिलाधिकारी को पत्र लिखकर आगरा एक्सप्रेसवे से सटे 230 गांवों में की गई जमीन अधिग्रहण के दस्तावेज तलब किए गए हैं। इतना ही नहीं प्रोजेक्ट से जुड़े कंपनियों से भी दस्तावेज तलब किए
गए हैं।

 

 

 

आदेश में कहा गया है कि पिछले 18 महीनों में अधिग्रहण की गई जमीनों को जांच किया जाए। दरअसल एक्सप्रेसवे से सटे जमीनों पर सब्जी मंडी, दुग्ध मंडी और अन्य मार्केट को ग्रीनफील्ड के रूप में विकसित किया जाना है, जिससे किसानों को फायदा होगा। लेकिन आरोप है कि कृषि योग्य जमीन को रिहाइशी दिखाकर कर ज्यादा मुवाजा बांटा गया है।
दरअसल आगरा एक्सप्रेसवे में जांच की बात तब से ही शुरू हो गई थी जब बीजेपी की सरकार सत्ता में आई। क्योंकि चुनाव प्रचार के दौरान बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने अखिलेश के इस ड्रीम प्रोजेक्ट में घोटाले का आरोप लगाते हुए सरकार बनने पर जांच कराने का वादा किया था। अमित शाह ने आरोप लगाया था कि जिस एक किलोमीटर सड़क को नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया (एनएचएआई) 16 करोड़ में बनाती है, उसे आगरा एक्सप्रेसवे में 31 करोड़ में बनाया गया।


12 जिलाधिकारियों को नोटिस भेज शासन ने मांगा  तीन साल में हुई जमीनों की खरीद-फरोख्त का रिकॉर्ड

सपा सरकार के कई कद्दावर नेता और सीएम के करीबी आ सकते हैं घेरे में

एक्सप्रेस-वे निर्माण कंपनी से मांगे सभी दस्तावेज, घोटाले की आशंकाएं
बताया जा रहा है कि पिछली सरकार ने अपने नजदीकियों को यहां जमीन खरीदवाई थी और फिर उसका अधिग्रहण कराया


Create Account



Log In Your Account