• Google

फर्जीवाड़ा कर निकाली करोड़ों की सैलरी

By: janabhind
14-04-2017 13:32:56 PM

प्राधिकरण में पीएफ घोटाला उजागर, कार्रवाई का इंतजार
 
ग्रेटर नोएडा। ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण में एक बड़े घोटाले का खुलासा हुआ है। कर्मचारियों के नाम की जगह उनकी संख्या लिखकर प्रोजेक्ट समेत कई विभागों ने करोड़ों का फर्जीवाड़ा किया। ऐसे कर्मचारियों के ईएसआई और पीएफ के 90 करोड़ रुपये भी जमा नहीं कराए गए, जबकि प्राधिकरण ने यह रकम ठेकेदार को जारी कर दी थी। इसका खुलासा तब हुआ जब पीएफ डिपार्टमेंट ने प्राधिकरण को 90 करोड़ का नोटिस भेजा। नोटिस के बाद प्राधिकरण के वित्त विभाग ने कर्मचारियों की संख्या पर सैलरी जारी करने पर रोक लगा दी है। 600 कर्मचारियों को देने के लिए फर्जी तरीके से सैलरी निकाली गई।
 
 
 
 
 
 
ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण किसी नए प्रोजेक्ट या रख-रखाव के लिए टेंडर जारी करती है तो उसमें डेढ़ फीसदी रकम इस बात के लिए रिजर्व रखी जाती है कि संबंधित प्रोजेक्ट की देखरेख के लिए कर्मचारियों की नियुक्ति की जाएगी। यह नियुक्ति प्रोजेक्ट इंचार्ज सीनियर मैनेजर के हाथों में होती है। बरसों से संबंधित प्रोजेक्ट के इंचार्ज कर्मचारियों के नाम न लिखकर उसकी जगह उनकी संख्या लिखते आ रहे हैं। इसी आधार पर सैलरी रिजीज होती थी।
इस खेल का खुलासा तब हुआ, जब पीएफ विभाग ने ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के सीईओ को 90 करोड़ का नोटिस भेजा। इस तरह जितने भी कर्मचारी लगे थे, उनका ईएसआई और पीएफ का पैसा भी प्राधिकरण के खाते से निकाला तो जा रहा था, लेकिन उसे जमा नहीं कराया जा रहा था। ऐसे सभी वरिष्ठ प्रबंधकों से कर्मचारियों का नाम बताने को कहा गया है। इसके साथ ही ईएसआई और पीएफ का 90 करोड़ रुपये न जमा कराने वाले ठेकेदारों की पेमेंट की फाइल रोकी गई है।


Create Account



Log In Your Account