• Google

मां-बेटे को गोलियों से भूना

By: janabhind
12-04-2017 13:50:00 PM

बिजनेस पार्टनर के परिवार के खात्मे की थी प्लानिंग
 
 
रुपए का लेनदेन या कुछ और...
 
नोएडा। 15 वर्षों से एक दूसरे का साथ दे रहे थे, सुख दुख में एक दूसरे के साथ खड़े रहते थे, इतना ही नहीं व्यापार भी साथ-साथ करते थे मगर देर रात एक पार्टनर ने दूसरे पार्टनर के पूरे परिवार को खत्म करने की योजना बनाई। इसके बाद वह खुद भी मरना चाहता था, लेकिन पिस्टल में गोली फंस गई। 
यह कोई फिल्मी कहानी नहीं है बल्कि देर रात सेक्टर-39 स्थित ई-59 में घटी वारदात है। मां-बेटे को गोलियों से भून दिया गया। इसके अलावा नौकर राजू को खुकरी से घायल कर दिया। बाद में आरोपी ने खुद को एक कमरे में बंद कर आत्महत्या की कोशिश की।
मेरठ जोन के आईजी अजय आनंद आज सुबह घटनास्थल पर पहुंचे। उन्होंने बताया कि अंकुश खुराना का बिजनेस पार्टनर राजेश जौली देर रात उनके घर आया और उसने नौकर को आवाज़ लगाई। जैसे ही उसने दरवाजा खोला तो उसने खुकरी से राजू पर वार किया जिससे वह घायल होकर जमीन पर गिर पड़ा। अंदर से अंकुश खुराना की मां अंजू खुराना निकलकर आई। उसने उन पर ताबड़तोड़ गोलियां चला दी। गोलियों की आवाज सुनते ही अंकुश जैसे ही बाहर निकला तो राजेश जौली ने उसकी सिर में गोली मार दी।
राजेश गोली चलाता रहा जिससे अंकुश का पूरा परिवार सहम गया। इस दौरान राजेश की पिस्टल में गोली फंस गई तब जाकर गोलियां चलनी बंद हुईं। इसके बाद राजेश ने खुद को एक कमरे में बंद कर अपने ही ऊपर लोहे की रॉड मार-मारकर हमला किया। जिससे वह बुरी तरह लहूलुहान हो गया। वहीं गोली लगने से अंकुश और उनकी माता अंजू खुराना की मौत हो चुकी है। खुराना परिवार पूरी तरह सहमा हुआ है। 
 
प्रोपर्टी डीलिंग का करते थे काम
मयूर विहार में अंकुश खुराना और राजेश जौली पिछले 15 वर्षों से प्रॉपर्टी डीलिंग का काम कर रहे थे। बताया जा रहा है कि दोनों के बीच लेनदेन का विवाद चल रहा था।
दो साल पहले हुई थी अंकुश की शादी
दो साल पहले जब अंकुश शादी हुई थी तो राजेश उसमें शरीक हुआ, इतना ही नहीं उसने शादी समारोह में इंतजाम भी कराया था। अब अंकुश की एक वर्ष की बच्ची है। 
'वारदात क्यों हुई, जांच जारीÓ
मेरठ जोन के आईजी अजय आनंद ने कहा कि अब तक की जांच में व्यापारिक संबंध ही निकलकर सामने आए हैं। वारदात क्यों हुई इस  बारे में पुलिस गहनता से जांच-पड़ताल कर रही है। 
घरों में छुप गए पड़ोसी
जैसे ही पड़ोसियों ने ताबड़तोड़ गालियों की आवाज सुनी तो वे अपने-अपने घरों में छिप गए। पड़ोसी खुराना परिवार को नजदीक से नहीं जानते थे। क्योंकि 3 साल पहले ही यहां शिफ्ट हुए थे। 


Create Account



Log In Your Account