• Google

नोटबंदी का जीडीपी पर असर नहीं

By: admin
28-02-2017 22:58:30 PM

नई दिल्ली. केन्द्रीय सांख्यिकी (सीएसओ) विभाग ने मंगलवार को जीडीपी के नए आंकड़े जारी किए. चालू वित्त वर्ष 2016-17 की तीसरी तिमाही के दौरान विकास दर 7 फीसदी रही. वहीं अगले वित्त वर्ष 2018 में यह आंकड़ा 7.3 रह सकता है और 2019 के दौरान यह आंकड़ा 7.7 फीसदी रह सकता है. विकास दर के यह नए आंकड़े 8 नवंबर 2016 को लागू नोटबंदी के असर को ध्यान में रखते हुए तैयार किए गए हैं. इससे पहले रिजर्व बैंक ने संभावना जताई थी कि नोटबंदी के असर से विकास दर गिरकर 6.9 फीसदी और 6.5 फीसदी रह सकती है. वहीं आईएमएफ ने विकास दर 6.6 फीसदी रहने का आंकलन किया था. गौरतलब है कि सीएसओ के मुताबिक मौजूदा वित्त वर्ष के दौरान जीडीपी का 7.1 फीसदी का आंकलन किया गया था. जिसके बाद वित्त वर्ष की पहली तिमाही (अप्रैल-जून) तक 7.2 फीसदी जीडीपी ग्रोथ दर्ज की गई थी. वहीं दूसरी तिमाही (जुलाई-सिंतबर) के दौरान विकास दर 7.4 फीसदी रही. वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही(अक्टूबर-दिसंबर) के दौरान केन्द्र सरकार ने 8 नवंबर 2016 को नोटबंदी का ऐलान किया था. जिसके बाद केन्द्रीय रिजर्व बैंक समेत कई अंतरराष्ट्रीय वित्तीय एजेंसियों ने विकास दर के अपने आंकलन में गिरावट की संभावना जताई थी. केन्द्र सरकार के आंकड़ों के मुताबिक नोटबंदी की तिमाही में विकास दर 7 फीसदी रही.


Create Account



Log In Your Account