• Google

नहीं हुई अफ्रीकन युवती से मारपीट

By: admin
30-03-2017 13:51:51 PM

गौतमबुद्ध नगर के एसएसपी ने मारपीट की बताई असलियत

फर्जी शिकायत करने पर केन्या के हाईकमिश्नर ने मांगी माफी

नोएडा। केन्या की मूल निवासी मारिया बुरांडी पर हुए हमले को आज गौतमबुद्ध नगर पुलिस ने फर्जी करार दिया है। आनन-फानन में एसएसपी धर्मंेद्र सिंह यादव ने प्रेस कांफ्रेंस कर खुलासा किया कि मारिया ने हमले की सूचना पुलिस को गलत दी थी। उ
उन्होंने दावा किया कि मारिया ने सुबह साढ़े सात बजे चौकी इंचार्ज श्री राणा को फोन किया और अपने ऊपर हमले होने की जानकारी दी। जब चौकी इंचार्ज आईवेरी अस्पताल में पहुंचे तो उसने बताया कि डॉक्टर इलाज नहीं कर रहे हैं तो उसे तुरंत कैलाश अस्पताल में ले जाया गया। एसएसपी ने कहा कि उसे चोटें नहीं लगी थीं।
एसएसपी ने बताया कि ओला कैब के ड्राइवर पिंटू ने मारिया को दिल्ली पुलिस सोसाइटी से सुबह साढ़े छह पिक किया था और सी 84 सेक्टर ओमीक्रॉन में ले जाकर छोड़ा। इस दौरान उसे लेन के लिए कुछ साथी बाहर आए थे। तभी कैब चालक को मारिया के साथी ने 500 का नोट दिया। लेकिन कैब चालक ने रुपए छुट्टे मांगे, इसके बाद मारिया ने अपने बैग से निकाल 120 रुपए छुट्टे दे दिए।
एसएसपी धर्मेंद्र यादव ने दावा किया कि एक दिन पहले सुबह करीब सवा तीन बजे मारिया चौकी इंचार्ज से मिली थी क्योंकि पुलिस वहां गश्त कर रही थी। इस दौरान चौकी इंचार्ज ने मारिया को अपना नंबर दिया था। एसएसपी का दावा है कि जिस वक्त वारदात होना बताया गया है उस वक्त वहां से कुछ दूरी पर पीसीआर भी खड़ी थी। जिसे भनक तक नहीं लगी। इसलिए यह वारदात की सूचना पूरी तरह फर्जी पाई गई है।
उन्होंने कहा कि हमारे पास पुख्ता सबूत है जिससे प्रमाणित होता है कि मारिया ने अपने साथियों के साथ झगड़ा होने से विचलित होकर यह सूचना दी थी।
कैब में बैठते ही युवती ने पी थी शराब : ड्राइवर
कैब चालक का कहना है कि लड़की ने चलती कार में शराब पी थी। हाई कमिशन ऑफ केन्या के काउंसलर फ्रेडरिक ने भी युवती के मारपीट के आरोपों को गलत बताया। उन्होंने कहा- पारिवारिक कारणों से लड़की डिप्रेशन में थी। उसकी दोस्तों से ही मारपीट हुई लेकिन स्थानीय युवकों पर मारपीट का आरोप लगाया था।
परिवारिक समस्या से थी दुखी : हाई कमिश्नर
केन्या एम्बेसी के हाई कमिश्नर फ्रेगनेंड ने कहा कि इस फर्जी सूचना पर हम लोग माफी मांगते हैं। वैसे मेरी मारिया से बहुत ज्यादा बात नहीं हुई लेकिन वह अपने पारिवारिक कारणों के चलते डिप्रेशन में है इस कारण उसने पुलिस को यह फर्जी कहानी बनाकर सुनाई। हाई कमिश्नर से कोई और सवाल पूछ पाते उससे पहले ही पुलिस साथ लेकर चलती बनी।
पुलिस ने दी पूरी सुरक्षा : चाल्र्स
अफ्रीकन स्टूडेंट वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष चाल्र्स ने कहा कि मारिया ने पुलिस को पूरी तरह गलत सूचना दी। इसकी पूरी पुष्टिï हो चुकी है। पुलिस हमें पूरी तरह सुरक्षा दे रही है।
 


Create Account



Log In Your Account