• Google

सुरक्षा के लिए महिलाएं मोबाइल में जरूर रखें ये एप्स

By: admin
28-03-2017 14:41:37 PM

हमारा देश तरक्की कर रहा है और देश तरक्की तब ही करता है जब वहां के लोगों का योगदान देश की सफलता की तरफ होता है। वहीं दूसरी और महिलाएं हर क्षेत्र में आगे बढ़कर नाम और शौहरत कमा रहीं हैं। लेकिन यह कहना बेहद ही दुर्भाग्यपूर्ण है कि देश में महिलाओं से जुड़े अपराध भी काफी बढ़ रहे हैं। ऐसा कोई दिन नहीं होता, जब रेप की खबरें अखबारों या चैनलों में न आएं। हर दिन देश में हो रही कोई ना कोई घटना या अपराध हमारा मनोबल तोड़ देती है। ऐसे हादसों से घर के बाहर लेडीज़ सेफ्टी को लेकर चिंताएं भी काफी बढ़ गई हैं। इस दिशा में सरकार और पुलिस की मदद के अलावा हम महिलाओं को भी कोई ठोस कदम उठाना चाहिए। और यदि इस काम में अगर हम तकनीक का सहारा लें, तो यह बहुत कारगर साबित हो सकता है। महिलाओं के खिलाफ बढ़ते अपराधों को ध्यान में रखते हुए हम अपनी यह ज़िम्मेदारी समझते हैं कि आपको ऐसे तकनीकी उपाय बताएं जिससे आप अपने आप को महफ़ूज़ रख सकती हैं। आइये बात करते हैं ऐसी एप्लिकेशन्स कि जो हर लड़की के समार्टफोन में सुरक्षा हेतु ज़रूरी हैं-

1. दामिनी: यह एप्प 16 दिसंबर 2012 के निर्भया गैंगरेप घटना के बाद बनाया गया था। एप्प डाउनलोड करने के बाद आपको फैमिली, फ्रेंड्स व पुलिस का नंबर रजिस्टर करना होगा। किसी भी खतरे के वक्त इस एप्प के ज़रिए आपके रजिस्टर्ड नंबरों पर मेसेज चले जाएंगे। थोड़ी-थोड़ी देर में आपकी लोकेशन भी इन नंबरों तक जाती रहेगी। इसके साथ ही एप्प के ऐक्टिवेट होने के बाद यह जगह की फोटो खींचकर, इन्हें रजिस्टर्ड नंबर पर सेंड करता है और क्लाउड पर सेव भी करता जाता है। ताकि अगर फोन तोड़ दिया जाए तब भी आपका डेटा स्टोरेज से निकाला जा सके।
 
2. हिम्मत एप्प: महिलाओं की सुरक्षा के लिए यह एप्प दिल्ली पुलिस की ओर से लॉन्च किया गया है। इसके लिए यूज़र को पहले दिल्ली पुलिस की वेबसाइट पर रजिस्ट्रेशन करना होगा। इसके बाद आपको एक ओटीपी नंबर मिलेगा जिसे एप्प को कनफिगर करते वक्त डालना होगा। इस एप्प में एसओएस अलर्ट मौजूद है, जिससे आपकी लोकेशन की जानकारी और ऑडियो-वीडियो पुलिस कंट्रोल रूम में पहुंचती है। यह एप्प गूगल प्ले स्टोर पर बिल्कुल मुफ्त उपलब्ध है।
 
3. सस्पेक्ट रजिस्ट्री: ये एप्प भी और ऐप्स की तरह लोकेशन्स तो ट्रैक करता है, पैनिक बटन आपके फोन में मौजूद सभी नंबर के पास 1 मिनट की वीडियो रेकॉर्डिंग सेंड हो जाएगी। फंग्शन ऑन करते ही आपकी फोटो, जगह और लोकेशन आपके फेसबुक पर अपलोड हो जाएगी।
 
यह एप्प भी लोकेशन ट्रैक करता है और साथ ही पैनिक अलार्म बटन को प्रेस करते ही इमर्जेंसी कॉन्ट्रैक्ट्स के पास 1 मिनट की वीडियो रिकॉर्डिंग के साथ आपकी लोकेशन की जानकारी चली जाती है। साथ ही “Record Any Incident" फीचर एप्प के फेसबुक पेज पर तस्वीरें अपलोड कर देता है।
 
4. सर्किल ऑफ 6: यह एप्प खासतौर पर कॉलेज जाने वाली स्टूडेंट्स को ध्यान में रख कर डिज़ाइन किया गया है। किसी भी परेशानी की स्थिति में एक टैप करते ही आपके परिवार वालों या दोस्तों तक मदद का मेसेज चला जाएगा। सर्किल ऑफ 6 एप्प हिंदी में भी उपलब्ध है और इसमें दिल्ली के हेल्पलाइन नंबर्स भी पहले से ही फीड हैं। 
 
5. स्क्रीम अलार्म: इस एप्प की खास बात है कि ये साउंड करने वाली एप्प है। किसी भी तरह की मुसीबत के समय पर एक बटन दबाते ही औरत की चीख जैसी साउंड होने लगती है। ये आवाज़ आपके आस-पास के लोगों को अलर्ट कर देती है कि आप मुश्किल में हैं। 
 
6. विद यू: विद यू एप्प की पहल टीवी शो गुमराह ने की है। इस एप्प के ज़रिये फोन के पावर बटन को दबाकर इसे ऐक्टिवेट किया जा सकता है। ऐक्टिवेट होते ही “I am in danger. I need help. Please follow my location" के साथ अपडेटेड लोकेशन इमर्जेंसी कॉन्ट्रैक्ट्स के पास हर 2 मिनट पर जाती रहती है।
 
7. सेफ्टीपिन: यह एप्प महिलाओं की सुरक्षा को एक खास तरीके से सुनिश्चित करने की कोशिश है। इस एप्प के ज़रिये आप अपने इलाके के ऐसी जगहों के बारे में जान सकते हैं जो कि महिलाओं के लिहाज से सेफ नहीं है। लोग इस एप्प पर उन जगहों की तस्वीरें शेयर कर सकते हैं और उन्हें सेफ्टी के लिहाज से रेट कर सकते हैं। सेफ्टीपिन एप्प यह भी जानने में मदद करता है कि कौन-सी जगह रात में या दिन के किस पहर में सेफ नहीं है।
 
8. रक्षा: आपके फोन में इंटरनेट ना होने की स्थिति में भी यह रक्षा एप्प काम करता है। केवल एक वॉल्यूम बटन दबाने से 100 नंबर पर कॉल और एसएमएस चला जाएगा। और इंटरनेट सेवा उपलब्ध होने की स्थिति में आपकी लोकेशन रजिस्टर्ड नंबरों के पास चली जाएगी। 
 
9. वुमेंस सेफ्टी ऐप: इस एप्प में 'शेक और हैंड' का फीचर है जिसे ऑन करते ही फोन को थोड़ा शेक करते ही, आपकी सारी डीटेल्स फीड कॉन्टेक्ट के पास चले जाएंगे। इस एप्प से बिना वजह मैसेज ना सेंड हो जाए इसलिए आप सेटिंग्स से शेक के ऑप्शन को कंट्रोल कर सकते हैं।
 
10. स्मार्ट 24×7: इमरजेंसी के समय पर यह एप्प आपके कॉन्टेक्ट नंबर पर जीपीएस लोकेशन भेजता है। फिलहाल यह एप्प गुड़गांव पुलिस, चंडीगढ़ पुलिस, जलंधर पुलिस, मोहाली पुलिस, जम्मू पुलिस, यूपी फायर सर्विस को सपोर्ट करती है। इस एप्प के लिए कॉल सेंटर सपॉर्ट भी मौजूद है जो यूज़र की प्राइमरी मूवमेंट्स को ट्रैक करता है।


Create Account



Log In Your Account