• Google

प्राधिकरणों में इंटरनल ट्रांसफर की तैयारी

By: admin
23-03-2017 15:19:37 PM

नोएडा। ओद्यौगिक विकास के लिए प्रदेश भर में बनाए गए प्राधिकरणों को एक करने की कवायद शुरू हो गई है। सरकार जल्द ही इनमें इंटरनल ट्रांसफर की नीति लाने जा रही है। लंबे समय से उत्तर प्रदेश में सभी प्राधिकरणों को आपस में जोडऩे की चर्चाए चल रही है लेकिन कुछ एक अधिकारी गैर जनपद ट्रांसफर होने से बचने के लिए उच्च अधिकारियों को और सरकार को भ्रमित कर रहे थे लेकिन अब वह ऐसा नहीं कर पाएंगे। क्योंकि सभी प्राधिकरणों को आपस में जोड़कर नोएडा से किसी भी अधिकारी का ट्रांसफर गोरखपुर विकास प्राधिकरण या फिर सीतापुर विकास प्राधिकरण हो सकेगा और वहां के अधिकारी यहां आ सकेंगे । इस खबर से नोएडा प्राधिकरण, ग्रेटर नोएडा  प्राधिकरण व यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण में हड़कंप मचा हुआ है। कुछ एक लोग हैं जो इस व्यवस्था के लागू होने के पक्ष में नहीं है कुछ इंजीनियरर्स हैं जो अभी से ही इसे रुकवाने के लिए जुगाड़ कर रहे है।  ऐसे में सबसे बड़ा सवाल यही है कि क्या योगी सरकार इस व्यवस्था को लागू करेगी। इससे भ्रष्टाचार पर भी अंकुश लग सकेगा। साथ ही उन अधिकारियों पर भी लगाम लगेगी जो काम करने में लापरवाही बरतते है।
 
बायोमैट्रिक से शिंकजा कसने की शिकायत
 
नोएडा प्राधिकरण में काम करने वाले कर्मचारी पर शिकंजा कसने के लिए अब बायोमैट्रिक मशीन से हाजिरी लगाई जाएगी। प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी दीपक अग्रवाल ने कार्यालय में औचक निरीक्षण किया। इसमें 25 प्रतिशत कर्मचारी अनुपस्थित पाए गए। कर्मचारियों के समय से कार्यालय आए, इस व्यवस्था को दुरुस्त करने के लिए उन्होंने एक सप्ताह में बायोमीटिक प्रणाली से उपस्थिति दर्ज कराने की व्यवस्था करने के निर्देश दिए हैं। बीते दिन प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी दीपक अग्रवाल, अपर मुख्य कार्यपालक अधिकारी पीके अग्रवाल, उपमुख्य कार्यपालक अधिकारी सौम्य श्रीवास्तव सहित कई अधिकारियों के साथ प्राधिकरण के विभिन्न विभागों में औचक निरीक्षण किया। 


Create Account



Log In Your Account