• Google

उत्तेजकों को रोकना भाजपा की चुनौती

By: admin
18-03-2017 13:18:30 PM

उत्तर प्रदेश में भाजपा की बंपर जीत ने कार्यकर्ताओं का उत्साह आसमान पर पहुंचा दिया है। यह उत्साह उत्तेजना में तब्दील होना शुरू हो गया है। यह उत्तेजना आने वाली सरकार के लिए बड़ी चुनौती बन सकती है। क्योंकि कार्यकर्ताओं का इस तरह उत्तेजित होकर जनविरोधी और लोकतंत्र विरोधी कदम उठाना भाजपा के हानिकारक हो सकता है। पिछले तीन दिनों में लगातार ऐसी खबरें आई हैं, जिससे लोगों में भाजपा की आने वाली सरकार को लेकर भय पैदा होने लगा है। बुलंदशहर में दो मुस्लिम धार्मिक स्थानों पर भाजपा के झंडे जबरन लगाने का प्रयास किया गया। मेरठ में एक सब्जी विक्रेता की टोपी उतार कर उसे बेइज्जत किया गया। मुजफ्फरनगर के कवाल में भी एक बार फिर साम्प्रदायिक तनाव का माहौल है। 
 
नई सरकार के गठन होते ही उसके सामने सबसे बड़ी चुनौती यही होगी। अगर उसने तत्काल इस तरह की घटनाओं को नही रोका और कानून व्यवस्था को सख्ती से लागू नहीं किया तो पिछले सपा सरकार और इस सरकार में कोई फर्क नहीं रह जाएगा। इतना ही नहीं इस तरह की वारदात बढ़ी तो न केवल उत्तर प्रदेश बल्कि देश के साथ-साथ अंतर्रराष्टï्रीय स्तर पर भी यूपी की छवि को गहरा धक्का लगेगा। हालांकि भाजपा का राष्टï्रीय नेतृत्व यहां तक कि आरएसएस भी इस तरह की घटनाओं के खिलाफ है। मगर, फिर भी आने वाली सरकार को इस तरह की हरकतों पर रोक लगाने के साथ-साथ प्रदेश में सौहार्दपूर्ण वातावरण बनाना प्राथमिकता में रखना होगा।


Create Account



Log In Your Account