• Google

चकमा देकर भागे गायत्री, तीन गिरफ्तार

By: admin
07-03-2017 11:40:44 AM

ग्रेटर नोएडा. यूपी के मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति रेप केस में एसटीएफ ने सोमवार देररात दो आरोपियों अशोक तिवारी और आशीष शुक्ला को नोएडा से गिरफ्तार कर लिया।आगे की कानूनी कार्रवाई के लिए दोनों को लखनऊ भेज दिया गया है। इस मामलेमें अब तक तीन लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है, पर मंत्री गायत्री प्रजापतिका अब तक कुछ पता नहीं चल सका है। सोमवार को सुप्रीम कोर्ट से गिरफ्तारी पररोक की अर्जी खारिज होने के बाद माना जा रहा था कि वह सरेंडर कर सकते हैं, पर अब तक वह फरार ही चल रहे हैं।

 गैंगरेप केस में फरार मंत्री प्रजापति को SC से नहीं मिली राहत

गैंगरेप मामले में सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के बाद यूपी पुलिस ने अखिलेशसरकार के मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति की गिरफ्तारी के लिए धरपकड़ तेज करदी है। नोएडा से अरेस्ट हुआ अशोक तिवारी मंत्री गायत्री प्रजापति का करीबीऔर रेप मामले के मास्टरमाइंड बताया जा रहा है। पेशे से लेखपाल अशोक तिवारीपर अमेठी जिला प्रशासन निलंबन की कार्रवाई कर चुका है।


 प्रजापति के करीबी हेड कॉन्स्टेबल ने किया आत्मसमर्पण

इससे पहले सोमवार को मंत्री के गनर और इस मामले में सहआरोपी चंद्रपाल कीगिरफ्तारी हो चुकी है। एसटीएफ नोएडा के सीओ राजकुमार मिश्रा ने बताया किसहआरोपी अशोक तिवारी और आशीष शुक्ला को गिरफ्तार कर नोएडा से लखनऊ भेजा गयाहै। इनकी नोएडा में होने की सूचना मिली थी। इस मामले के अन्य फरारआरोपियों की भी तलाश की जा रही है।

बता दें कि जब गायत्रीप्रजापति खनन मंत्री बने थे, तभी से पूरे प्रदेश के खनन विभाग कीजिम्मेदारी अशोक तिवारी के कंधे पर थी और पूरा हिसाब भी वही देखता था। अशोकतिवारी चित्रकूट का रहने वाला है और अमेठी तहसील में लेखपाल के पद परतैनात था। गैंगरेप और यौनशोषण के आरोप में फरार चल रहे गायत्री प्रजापति औरअन्य आरोपियों के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी हो चुका है। सोमवार कोसुप्रीम कोर्ट ने भी गिरफ्तारी पर रोक लगाने की प्रजापति की याचिका कोखारिज करते हुए उन्हें संबंधित अदालत जाने को कहा था।

चित्रकूट कीएक महिला ने लखनऊ के गौतमपल्ली थाने में 18 फरवरी को गायत्री प्रजापति औरउनके साथियों पिंटू सिंह, अशोक तिवारी, विकास वर्मा, चन्द्रपाल, रूपेश औरआशीष शुक्ला के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करवाई थी। यह रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट केआदेश पर लिखी गई थी। आरोप है कि मुकदमा दर्ज होने के बाद दबाव में आई पुलिसकाफी सुस्त तरीके से पड़ताल कर रही थी। पीड़िता ने आरोप लगाया था कि साल2014 में गायत्री के आवास पर उसके साथ गैंगरेप हुआ था।


Create Account



Log In Your Account