• Google

मोदी के खिलाफ दर्ज हो प्राथमिकी

By: admin
27-02-2017 22:50:52 PM

नई दिल्ली, 27 फरवरी । कांग्रेस ने भारतीय जनता पार्टी पर चुनाव आचार संहिता उल्लंघन का आरोप लगाया है और निर्वाचन आयोग से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराने की मांग की है। पार्टी का कहना है कि 10 फरवरी को हरिद्वार में हुई उनकी चुनावी जनसभा के लिए अनुमति नहीं ली गयी थी। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री हरीश रावत तथा प्रदेश प्रभारी महासचिव अम्बिका सोनी के नेतृत्व में कांग्रेस के एक प्रतिनिधिमंडल ने यहां निर्वाचन आयोग के अधिकारियों से मुलाकात की और प्रधानमंत्री के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराने की मांग की। दोनों नेताओं ने इस संबंध में आयोग को एक ज्ञापन भी सौंपा। प्रतिनिधिमंडल में उत्तराखंड प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष किशोर उपाध्याय, वरिष्ठ नेता इंदिरा हृदेश, संजय कपूर और सरिता आर्य भी शामिल थीं। श्री रावत ने कहा कि 10 फरवरी को भारतीय जनता पार्टी की हरिद्वार में चुनावी जनसभा की आयोग से अनुमति नहीं ली गयी थी। यह साफ तौर पर चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन है। उन्होंने कहा कि इस मामले को राज्य चुनाव आयोग के समक्ष उठाया गया था और इस पर भाजपा की राज्य इकाई को कारण बताओ नोटिस भी जारी गया तथा भाजपा की हरिद्वार इकाई के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गयी है। कांग्रेस नेता ने कहा कि पार्टी ने इसी मामले में मोदी, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जगत प्रकाश नड्डा, सांसद रमेश पोखरियाल, स्थानीय उम्मीदवार मदन कौशिक तथा भाजपा के अन्य नेताओं के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराने की मांग की है। कांग्रेस का कहना है कि जनसभा को संबोधित करने वाले नेताओं और भाग लेने वाले लोगों के खिलाफ भी प्राथमिकी दर्ज की जानी चाहिए। श्रीमती सोनी ने एक सवाल के जवाब में कहा कि निर्वाचन आयोग ने पूरे मामले को देखने और उचित कार्रवाई करने का आश्वासन दिया है।श्री रावत ने कहा कि भाजपा ने चुनाव प्रचार पर करोड़ों रुपए फूंक दिए हैं। इस संबंध में भी चुनाव आयोग को संज्ञान लेना चाहिए। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री की जनसभाओं पर हो रहा खर्च संबंधित उम्मीदवारों के खर्च में शामिल करना चाहिए। उन्होंने कहा कि छोटे राज्यों में चुनावी खर्च पर विशेष रूप से ध्यान देना चाहिए। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड में भाजपा का चुनावी खर्च एक हजार करोड़ रुपए अधिक है। इसकी जांच की जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग को यह सनिश्चित करना चाहिए 15 फरवरी शाम पांच बजे तक के बाद कोई डाक मतदान स्वीकार नहीं किया जाए। इन्हें किसी भी हालत में मतगणना में शामिल नहीं करना चाहिए।


Create Account



Log In Your Account