हाथरस पुलिस चौकी के अंदर सिपाही पर कुकर्म का आरोप

सोशल मीडिया पर यहां से शेयर करें

हाथरस। कोतवाली सदर की चामड़ गेट पुलिस चौकी के अंदर एक बेसहारा किशोर के साथ सिपाही संजेश यादव (45) ने कई दिन तक कुकर्म किया। शिकोहाबाद निवासी सिपाही के कुकर्मों की पोल 30 सितंबर को रेस्ट पर जाने के बाद सोमवार देर रात खुली तो उसके खिलाफ अप्राकृतिक संबंध बनाने, पॉक्सो व एससी-एसटी एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया गया। निलंबित भी कर दिया गया है। जांच सीओ सिटी को दी गई है। पिछले दिनों लखनऊ में निर्दोष एरिया मैनेजर की हत्या के बाद साख गंवाती पुलिस के दामन पर यह भी एक बदनुमा दाग आ लगा है।
कासगंज जिले के सोरों क्षेत्र में रहने वाले पीडि़त किशोर के मां-बाप गुजर चुके हैैं। इसका शोषण करने का इल्जाम यूपी-100 में तैनात सिपाही संजेश यादव पर लगा है। सिपाही की ड्यूटी सहपऊ क्षेत्र की पीआरवी 1119 पर चल रही थी। हफ्तेभर पहले ही उसे दूसरे सिपाही की जगह वहां भेजा गया था। शिकोहाबाद (फीरोजाबाद) निवासी संजेश (45) कई साल से चामड़ गेट चौकी पर बने कमरे में रहा था। यहां पांच कमरे बने हैैं, जिसमें एक में दफ्तर चलता है।
बाकी चार कमरों में सात पुलिसकर्मी रहते हैैं। हालांकि, चौकी पर प्रभारी के साथ एक ही कांस्टेबल तैनात है। पीडि़त किशोर के मुताबिक वह अनाथालय में रहकर हाईस्कूल कर रहा था। अगस्त अंत में निकाले जाने के बाद पड़ोस के ढाबे पर काम करते हुए यहीं रहने लगा। नौ सितंबर को ढाबे पर ही सिपाही संजेश से मुलाकात हुई। 10 को चौकी ले आया और किशोर को साथ रख लिया। पांच दिन पहले सिपाही ने कुकर्म किया। आगे भी कई बार यही हुआ।
संजेश छुट्टी पर गया तो किशोर ने दूसरे पुलिसकर्मियों को बताया। खबर पर शहर कोतवाल जसपाल सिंह पंवार ने सोमवार रात किशोर के बयान लिए और संजेश के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की। किशोर को जिला अस्पताल लाए। मंगलवार को बुआ के सुपुर्द कर दिया गया। दो अक्टूबर तक छुट्टी पर रहा सिपाही फरार है। सिपाही ने किशोर के आरोपों को षड्यंत्र बताया है।
किशोर की तहरीर पर रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है। चिकित्सीय परीक्षण भी कराया गया है। साक्ष्य संकलित करके दोषी के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी।
गांव बढ़ेरा में इमाम ने बच्चे के साथ कुकर्म किया। पंचायत बैठी तो पंचों ने माफी मांगने पर इमाम को माफ कर दिया।

गांव बकावाला निवासी युवक गांव बढ़ेरा स्थित मस्जिद में तीन साल से इमाम है और मदरसे में बच्चों को दीनी तालीम देता है। आरोप है कि मदरसे में छुट्टी के बाद गांव का एक आठ साल का बच्चा अकेला रह गया था।

इमाम उसे बहलाकर कमरे में ले गया और उसके साथ कुकर्म किया।
बच्चे ने आपबीती घर वालों को बताई। पीडि़त पक्ष को थाने में नहीं जाने दिया और पंचायत हुई। पंचों ने माफी मांगने पर इमाम को छोड़ दिया। एसओ का कहना है कि कुछ लोगों ने उन्हें बताया था, लेकिन तहरीर नहीं आई।

कस्बा में किशोर ने ढाई साल की बच्ची से दुष्कर्म किया। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया है। पीडि़ता का पिता रविवार शाम परिवार की किसी महिला को दवा दिलाने गया था। घर पर पत्नी व बच्चे थे। पत्नी पड़ोस में किसी कार्य से पड़ोस में गई थी। घर के दरवाजे पर पड़ोस के ही दो-तीन किशोर उम्र के लड़कों को छोड़ गई। घर में दो बच्ची (ढाई वर्षीय व साढ़े तीन वर्षीय) सो रही थीं। बाद में दो किशोर अपने घर चले गए। आरोप है कि तीसरे ने घर में घुसकर बच्ची से दुष्कर्म किया।

महिला घर वापस आई तो आरोपित बाहर अस्त-व्यस्त कपड़ों में दिखा। अंदर जाकर देखा तो बच्ची की हालत देखकर दंग रह गई। बाहर आई तो किशोर भाग चुका था। घटना की जानकारी पड़ोस में दी। पड़ोस के लोगों ने पुलिस को सूचना दी। घटना को लेकर ग्रामीणों में तनाव है।ग्रामीणों में गुस्?सा है वह अपने प्रयास से ही किशोर को खोजने में लगे हुए हैं।

थाना प्रभारी संजय पांडे ने बताया कि तहरीर के आधार पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। आरोपित 14 साल का है। बच्ची का मेडिकल परीक्षण कराया गया है। किशोर की तलाश की जा रही है। किशोर और उसके परिजन घर से भागे हुए हैं।


सोशल मीडिया पर यहां से शेयर करें

संबंधित ख़बरें