मोबाइल नंबर से बैंक अकाउंट कर रहे साफ

नई दिल्ली। एक एड फर्म में काम करने वाले अभिजीत दास जब रात को गहरी नींद में सो रहे थे, इसी दौरान उनके खाते से 1.4 लाख रुपये साफ कर दिए गए. धोखाधड़ी करने वालों ने बड़ी चालाकी से उनके खाते से ये पैसे निकाल लिए। टीओआई की रिपोर्ट के मुताबिक रात को जब ये फ्रॉड हुआ, तो अभिजीत को कई मैसेज आए. इसमें पिन बदलने के लिए ओटीपी समेत बेनफिशियरी एड करने व फंड ट्रांसफर की जानकारी भी आई. इससे आशंका जताई जा रही है कि पीडि़त का सिम क्लोन कर इस फ्रॉड को अंजाम दिया गया। लेकिन धोखाधड़ी करने वाले इसी तरीके से नहीं, बल्कि वे आपके मोबाइल नंबर की बदौलत दूसरे तरीकों से भी फ्रॉड कर रहे हैं. जिसको लेकर अगर आप ने सतर्कता नहीं बरती, तो आपको लाखों रुपये की चपत लग सकती है। आधार वेरीफिकेशन के नाम पर फ्रॉड आपको एक फोन आता है. सामने वाला कहता है कि आपका मोबाइल नंबर आधार से लिंक नहीं है और जल्दी नहीं किया तो आपका सिम बंद हो जाएगा. इस दौरान वह आपको एक नंबर देता है, जिसे आपको 121 पर भेजने के लिए कहा जाता है। जैसे ही आप उस नंबर को 121 पर भेजते हैं, वैसे ही आपका बैंक अकाउंट साफ कर दिया जाता है। कई लोगों को इसके जरिये लाखों रुपये की चपत लग चुकी है। कैसे बचें ? इससे बचने का एक ही तरीका है कि आप तब तक कोई भी नंबर 121 पर न भेजें, जब तक आपके पास उस नंबर का फिजिकल सिम मौजूद न हो. और याद रखिये, सिम-आधार लिंक 121 पर कोई नंबर भेजने से नहीं होता।

संबंधित ख़बरें

Leave a Comment