बाल यौन शोषण पर सर्वेक्षण आंकड़े जारी

सोशल मीडिया पर यहां से शेयर करें

उदय अग्निहोत्री मेमोरियल पुरस्कार, इंडिया इंटरनेशनल सेंटर एनेक्सी

नई दिल्ली। अभियान द्वारा आयोजित किया गया था, जो बाल यौन दुर्व्यवहार से लडऩे के लिए एक समर्पित गैर सरकारी संगठन है । पुरस्कार पांच योग्य क्षेत्रों में उत्कृष्ट कार्य करने वाले सबसे योग्य उम्मीदवारों को दिया जाता है: पर्यावरण, सामाजिक जागरूकता, स्वास्थ्य, शिक्षा और सांप्रदायिक सद्भावना।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि डॉ बी एल गौर, एक प्रसिद्ध लेखक, कवि, पत्रकार और मानवविज्ञानी थे। सम्मान के मेहमान डॉ। सुनील कुमार गौतम, दिल्ली पुलिस के विशेष आयुक्त और सामाजिक कारणों के लेखक और डॉ आनंद कुमार पांडे, ह्रदय रोग विशेषज्ञ, मैक्स अस्पताल थे।

समारोह में यौन अपराध से बच्चों को कैसे रोकें इस पर एक पैनल चर्चा भी आयोजित की गई। पैनलिस्टों पर विभिन्न क्षेत्रों से कुछ प्रतिष्ठित व्यक्तित्व थे- श्री गौर, श्रीमान सुनील कुमार गौतम, डॉ आनंद पांडे, श्रीमती ज्योति दुहान राठे (पोस्को हेड, डीसीपीसीआर) डॉ समीर कौल, (वरिष्ठ परामर्शदाता, सर्जिकल ऑन्कोलॉजी और रोबोटिक्स, अपोलो अस्पताल), पवन शर्मा (अध्यक्ष, भागिनी निवेदिता कॉलेज, डीयू), श्री नीरज पाठक (उपाध्यक्ष, मैथिली भोजपुरी अकादमी), न्यायमूर्ति सक्सेना (दिल्ली एसीएमएम कोर्ट), श्री अशोक अरोड़ा (प्रसिद्ध वकील), श्री अशोक लाल (लेखक और प्रोफेसर) एवं डॉ. दीपाली कपूर(साइकोलोजिस्ट, अपोलो अस्पताल ) ।
पैनल व्याख्यान अर्चना अग्निहोत्री, निदेशक समाधान अभियान द्वारा आयोजित किया गया था। परियोजना और प्रशासनिक निदेशक शीलम बाजपेई ने पुरस्कार की घोषणा की। ट्रस्टी निदेशक डॉ एससी पांडे ने धन्यवाद का वोट दिया था। मीडिया श्री जयदीप मिश्रा ने कवर किया था। श्री सुमित नरुला ने मीडिया समन्वय किया था।

समाधान अभियान की सफलता इसकी समर्पित टीम में निहित है। प्रेस से बात करते हुए अर्चना अग्निहोत्री, निदेशक एसए ने कहा- हमारे देश को बेहतर बनाने के लिए, हमें भारत से बाल यौन शोषण खत्म करना होगा”। डॉ एससी पांडे ने हितधारकों से सक्रिय भागीदारी की आवश्यकता पर बल दिया।
शीलम बाजपेई ने बाल यौन दुर्व्यवहार के खिलाफ चुप्पी तोडऩे की आवश्यकता पर आह्वान किया। दीपिका सिंह ने सामुदायिक अनुकूल पद्धति विकसित करने पर जोर दिया। वैभव ने लक्ष्य तक पहुंचने के लिए व्यापक रणनीति की योजना बनाई।

जयदीप ने इस कार्यक्रम की अधिक दृश्यता सुनिश्चित करने के लिए सोशल मीडिया को शामिल करना है।
“क्कह्रष्टस्ह्र का मतलब यौन अपराधों से बच्चों की सुरक्षा है, लेकिन वास्तविकता यह है कि इसमें से शब्द प्रोटेक्शन ही गायब है या यों कहैं कि भ्रष्ट तंत्र इसे पूरी तरह से लागू नहीं होने वाला, अन्यथा बच्चों पर दिन पर दिन बढ़ते जुल्मों में बढ़ोतरी नहीं हो हो रही है। – डॉ बीएलजीओआर, अध्यक्ष, गौर्सन।हम समग्र पुनर्वास और पीडि़तों के कुल न्याय पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं – डॉ ज्योति दुहान राठे, क्कह्रष्टस्ह्र प्रमुख, ष्ठष्टक्कष्टक्र कार्यक्रम में ढ्ढढ्ढञ्ज दिल्ली से डॉ लवलेश महतो एवं प्रो. अंजलि मुल्तानी, एसोसिएट डीन (स्टूडेंट वेलफेयर)उपस्थित थे।


सोशल मीडिया पर यहां से शेयर करें

संबंधित ख़बरें