पीएनबी घोटाला : नीरव मोदी ने वनुआतु की नागरिकता के लिए दिया था आवेदन

सोशल मीडिया पर यहां से शेयर करें
  • 1
    Share

नई दिल्ली। पीएनबी घोटाला सामने आने के करीब तीन महीने पहले हीरा कारोबारी नीरव मोदी ने वनुआतु देश की नागरिकता हासिल करने की कोशिश की थी। लेकिन वहां की सरकार ने इनकार कर दिया था। 13 हजार करोड़ के पीएनबी घोटाले में नीरव और मेहुल चौकसी मुख्य आरोपी हैं। मेहुल को एंटीगुआ की नागरिकता हासिल करने में कामयाबी मिल गई। नीरव किस देश में है? इसकी जानकारी नहीं है।

वनुआतु की नागरिकता हासिल करने के लिए नीरव ने नवंबर 2017 में 18 अधिकृत एजेंट्स में से एक के अकाउंट में 195,000 डॉलर (करीब 1.4 करोड़ रुपए) ट्रांसफर किए थे। वनुआतु की सरकार निवेश कार्यक्रम के तहत बाहर के लोगों को नागरिकता देती है।

वनुआतु सरकार ने नागरिकता देने के पहले नीरव मोदी की खुफिया जांच की। इसमें नीरव के खिलाफ कई प्रतिकूल रिपोर्ट सामने आईं। इसके बाद सरकार ने मोदी के आवेदन को खारिज कर दिया। नीरव और चौकसी इस साल जनवरी के पहले हफ्ते में देश छोड़कर भाग गए थे।

नीरव ने जून में यूके में शरण के लिए आवेदन दिया था। इससे पहले, उसके सिंगापुर और अमेरिका में होने की खबरें आई थीं।

नीरव मोदी और मेहुल चौकसी पर आरोप है कि दोनों ने बैंक अधिकारियों की मदद से 2011 से 2018 के बीच फर्जी लेटर ऑफ अंडरटेकिंग के जरिए बड़ी रकम विदेशी अकाउंट्स में ट्रांसफर कराई। इस मामले में पहली एफआईआर इस साल जनवरी में दर्ज की गई थी।


सोशल मीडिया पर यहां से शेयर करें
  • 1
    Share

संबंधित ख़बरें

Leave a Comment