तिरंगे में लपेटा गया अटल का शव, मिलेगी बंदूकों की सलामी

सोशल मीडिया पर यहां से शेयर करें

93 वर्षीय पूर्व प्रधानमंत्री अटल के निधन के बाद उन्हें शुक्रवार को राजकीय  सम्मान के साथ विदा किया जाएगा। अंतिम संस्कार से पहले वाजपेयी का पार्थिव शरीर तिरंगे में लपेटा गया है।

नई दिल्ली। भारत रत्न से सम्मानित भारत के तीन बार रहे प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने इस गुरुवार को दुनिया से अलविदा कह दिया है। उन्होंने दिल्ली के एम्स अस्पताल में गुरुवार शाम अंतिम 5.5 बजे अंतिम सांस ली। 93 वर्षीय पूर्व प्रधानमंत्री अटल के निधन के बाद उन्हें शुक्रवार को राजकीय  सम्मान के साथ विदा किया जाएगा। अंतिम संस्कार से पहले वाजपेयी का पार्थिव शरीर तिरंगे में लपेटा गया है।
आप को बताते चले कि राजकीय सम्मान में शव को तिरंगे में लपेटा जाता है। जिस व्यक्ति को राजकीय सम्मान देने का फैसला किया जाता है उनके अंतिम सफर का पूरा इंतजाम राज्य या केंद्र सरकार की तरफ से किया जाता है। शव को तिरंगे में लपेटने के अलावा बंदूकों से सलामी भी दी जाती है।
राजकीय सम्मान पहले चुनिंदा लोगों को ही दिया जाता था लेकिन अब ऐसा नहीं है। अब सरकार की तरफ से ये देखा जाता है कि व्यक्ति का ओहदा क्या था। सरकार राजनीति, साहित्य, कानून, विज्ञान और सिनेमा जैसे क्षेत्रों में अहम किरदार अदा करने वाले लोगों के निधन पर उन्हें राजकीय सम्मान देती है। किसी राज्य का मुख्यमंत्री अपने मंत्रियों के साथ बैठक के बाद इस पर फैसला करता है। फैसला हो जाने पर इसकी जानकारी राज्य के वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों को दी जाती है। कहा जाता है कि आजाद भारत में पहला राजकीय सम्मान महात्मा गांधी को दिया गया था।
आम तौर पर राजकीय सम्मान बड़े नेताओं को दिया जाता है, जिनमें प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री, मंत्री और दूसरे संवैधानिक पदों पर बैठे लोग शामिल होते हैं। इसके अलावा केंद्र सरकार किसी भी शख्स को यह सम्मान देने का आदेश दे सकती है। नियमों में बदलाव के बाद केंद्र के अलावा राज्य सरकार भी इस पर फैसला ले सकती है।


सोशल मीडिया पर यहां से शेयर करें

संबंधित ख़बरें