डिप्रेशन, एंग्जाइटी और ओसीडी के इलाज के लिए माइंडफुल टीएमएस न्यूरोकेयर की क्रांतिकारी पद्धति -अब भारत में

सोशल मीडिया पर यहां से शेयर करें
  • 1
    Share

नई दिल्ली। डिप्रेशनके इलाज के लिए भारत की पहली सुपर स्पेशलाइज्ड न्यूरोकेयर सेंटर्स की श्रृंखला ‘माइंडफुल टएमएस न्यूरोकेयर को आज लॉन्च किया गया। इसे रंगसंस आल्थकेयर द्वारा पेश किया गया है जोकि एनआर ग्रुप का हिस्सा है और लोकप्रिय अगरबत्ती ब्रांड साइकल प्योर अगरबत्तीज की मूल कंपनी है। यह अपनी तरह का पहला सेंटर होगा जो भारत में डिप्रेशन, एंग्जाइटी और ओसीडी के इलाज के लिए यूएस एफडीए-मान्यता प्राप्त ट्रांसक्रैनियल मैग्नेटिक स्टिम्युलेशन (टीएमएस) का इस्तेमाल करेगा।
इस अवसर पर रंगसंस के एमडी श्री पवन रंगा के साथ ही मनोचिकित्सा व व्यवहारगत न्यूरोसाइंसेस विभाग, लोयोला यूनिवर्सिटी मेडिकल सेंटर, शिकागो, अमेरिका के प्रोफेसर और चेयरमैन डॉ. मुरली एस. राव तथा नई दिल्ली के वरिष्ठ मनोचिकित्सक डॉ. जतीन उकरानी उपस्थित थे।
दुनिया भर में टीएमएस डिप्रेशन के लिए एक असरदार नॉन-ड्रग आधारित उपचार के तौर पर उभरा है जिसमें कोई साइड इफेक्ट नहीं हैं। इसने डिप्रेशन, ओसीडी और एडिक्शन जैसी मानसिक बीमारियों को हराने में हजारों रोगियों की मदद की है। यह उन लोगों के लिए भी असरदार साबित हुआ है जिन पर एंटीड्रिप्रेसेंट काम करने में नाकाम रहे हैं। इसके असर को मान्यता देते हुए, दुनियाभर में कई स्वास्थ्य बीमा कंपनियां टीएमएस उपचार को कवर करती हैं।
ट्रांसक्रैनियल मैग्नेटिक स्टिम्युलेशन (टीएमएस) एक बिना चीरफाड़ वाली प्रक्रिया है जिसमें दिमाग में लक्षित कोशिकाओं और न्यूरोट्रांसमिटर्स को स्टिमुलेट करने के लिए मैग्नेटिक फील्ड्स का प्रयोग किया जाता है। ताकि डिप्रेशन और अन्य मानसिक बीमारियों के लक्षणों को सुधार जा सके। एक नियमित टीएमएस का सत्र लगभग 19 मिनट तक चलता है और उन्नत संस्करण करीब 9 मिनट, जिसके बाद रोगी तुरंत अपनी सामान्य गतिविधियां फिर से शुरू कर सकते हैं।
इस अवसर पर रंगसंस के एमडी और एनआर ग्रुप के मैनेजिंग पार्टनर श्री पवन रंगा ने कहा, वर्तमान में, डिप्रेशन और एडिक्शन बीमारियां बड़ी आम हो चली हैं जिसने भारत की आबादी के एक बड़े हिस्से को प्रभावित किया है। मैंने डिप्रेशन के मरीजों के परिवारों द्वारा झेली जाने वाली पीड़ा का अनुभव किया है। भारत में मानसिक बीमारियों के साथ तंबाकू की चुनौतियां भी जुड़ी हुई हैं, और जागरुकता की कमी के कारण वे शायद इस बीमारी का सामना कर रहे हैं।
परिणमस्वरूप, डिप्रेशन से पीडि़त अधिकांश लोग सामने आकर मदद नहीं मांगते हैं। माइंडफुल एमएस न्यूरोकेयर में हमारा उद्देश्य, जागरुकता पैदा करना और उन मरीजों की मदद करना है जिन्होंने इलाज को लेकर प्रतिक्रिया नहीं दी है। हमारी सबसे बड़ी ताकत है कि हम वैश्विक हैं। हमारे पास वैश्विक रुप से परीक्षित उत्पादों एवं प्रणालियों तक पहुंच है ताकि इलाज की दक्षमा को बढ़ाने में मदद मिल सके। इस इलाज ने अमेरिका में हजारों लोगों की सहायता की है और अब इसे भारत लाया गया है। रोगियों की अनूठी जरूरतों को समझने और व्यक्तिगत उपचार योजनाएं विकसित करने के लिए हमारे मनोचिकित्सकों और मनोवैज्ञानिकों को दुनिया की सर्वोत्तम प्रथाओं में प्रशिक्षित किया जाता है। हमारे चिकित्सक यह सुनिश्चित करेंगे कि आप हमारे सभी क्लीनिकों में घर जैसा सुकून और सहजता महसूस करें।
लोयोला यूनिवर्सिटी मेडिकल सेंटर, शिकागो, अमेरिका के मनोचिकित्सा व व्यवहारगत न्यूरोसाइंसेस विभाग में प्रोफेसर और चेयरमैन डॉ. मुरली एस. राव ने कहा कि भारत में डिप्रेशन किशोरावस्था, मध्यम आयु वर्ग के समूहों और बुजुर्गों की एक बड़ी संख्या को सताता है, जिनमें महिलाएं और पुरुष दोनों शामिल हैं। मैं ऐसे मरीजों से मिला हूं जिन्हें मदद की सख्त जरूरत है, लेकिन अनुपलब्धता, जागरूकता की कमी, मनोरोगों को लेकर प्रचलित कलंक या भेदभाव के कारण रोगियों को समग्र उपचार और देखभाल नहीं मिल पा रही है। हालांकि एंटी-डिप्रेसेंट्स डॉक्टरों द्वारा दिए जाने वाले शुरुआती उपचार हैं, लेकिन मुमकिन है कि ये रोगियों की एक उल्लेखनीय संख्या के लिए उपयुक्त न हों। ऐसी स्थितियों में, यदि मौजूदा उपचार के साथ एक उन्नत और प्रभावी पद्धति भी जोड़ दी जाए, तो यह उन हजारों मरीजों की मदद करेगी, जो फिलहाल चुपचाप दर्द सहन कर रहे हैं।
शहर के मध्य भाग ग्रेटर कैलाश में स्थित यह अत्याधुनिक सुविधा मनोवैज्ञानिक, मनोचिकित्सकीय, व्यवहारगत स्वास्थ्य और समग्र कल्याण के लिए एक विशिष्ट और अलग तरह का उपचार उपलब्ध कराएगी। केंद्र की टीम में साइकियाट्रिस्ट और साइकोथैरेपिस्ट शामिल हैं, जिनके पास न्यूरोमॉड्युलेशन और न्यूरोस्टिम्युलेशन में व्यापक अनुभव है। यह बात हमारे मरीजों को न्यूरोकेयर का टिकाऊ, प्रमाण-आधारित उपचारों का मॉडल देने के लिए टीम को एकदम उपयुक्त बनाती है।
माइंडफुल टीएमएस न्यूरोकेयर के माध्यम से कंपनी का लक्ष्य भारत में उन तमाम लोगों की मदद करने के लिए ज्यादा से ज्यादा इस तरह की क्रांतिकारी पद्धतियां और विशेषज्ञता उपलब्ध कराना है, जो डिप्रेशन के लिए एक अनूठे और प्रमाणिक उपचार की तलाश में हैं।
माइंडफुल टीएमएस न्यूरोकेयर के विषय में:

एनआर ग्रुप के हिस्से, रंगसंस की एक पहल माइंडफुल टीएमएस न्यूरोकेयर भारत में निजी सुपर-स्पेशलाइज्ड टीएमएस न्यूरोकेयर सेंटर्स की पहली श्रृंखला है। यूएस एफडीए-अनुमोदित उपचार, टीएमएस (ट्रांसक्रैनियल मैग्नेटिक स्टिम्युलेशन) के माध्यम से ये क्लीनिक मनोवैज्ञानिक, मनोचिकित्सकीय और व्यवहारगत स्वास्थ्य व कल्याण के लिए एक एकीकृत कार्यक्रम मुहैया कराते हैं। माइंडफुल टीएमएस में व्यापक उपचार कार्यक्रम उन व्यक्तियों के लिए हैं जो डिप्रेशन, ऑब्सेसिव कंपल्सिव डिसऑर्डर (ओसीडी), एंग्जाइटी विकार, और मूड विकार से पीडि़त हैं। अधिक जानकारी के लिए, कृपया 222.द्वद्बठ्ठस्रद्घह्वद्यह्लद्वह्य.ष्शद्व पर जाएं।


सोशल मीडिया पर यहां से शेयर करें
  • 1
    Share

संबंधित ख़बरें

Leave a Comment