जीवन की परीक्षा नहीं है बोर्ड : मोदी

सोशल मीडिया पर यहां से शेयर करें

नई दिल्ली। बोर्ड परीक्षा के दौरान तनाव में रहने वाले छात्रों को तनाव से दूर रहने की हिदायत देने हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज छात्रों और अभिभावकों से सीधी बात की। उन्हें समझाने की कोशिश की कि बोर्ड परीक्षा या कुछ एक परीक्षा ही जीवन की अंतिम परीक्षा नहीं है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ‘परीक्षा पे चर्चा ‘2.0Ó कार्यक्रम में देश और विदेश के स्टूडेंट्स से परीक्षा से जुड़े कई पहलुओं पर बातचीत किया। इस साल स्टूडेंट्स के साथ टीचर, पैरेंट्स और विदेशी स्टूडेंट भी भाग लिया। इस दौरान मोदी तनाव रहित परीक्षा, प्रेशर रहित परीक्षा समेत कई मुद्दों पर शिक्षकों और पैरेंट्स को सुझाव दिए।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दूसरी बार ‘परीक्षा पे चर्चाÓ के माध्यम से स्टूडेंट्स से बात कर रहे थे। कुछ चुनिंदा विद्यार्थियों को नरेंद्र मोदी से मुलाकात करने का अवसर भी मिला।
प्रधानमंत्री ने कहा आप अपनी तुलना अपने पुराने रिकॉर्ड से कीजिए, आप प्रतियोगिता अपने रिकॉर्ड से कीजिए, आप अपने रिकॉर्ड ब्रेक कीजिए, आप अगर खुद के रिकॉर्ड ब्रेक करेंगे तो आपको कभी भी निराशा के गर्त में डूबने का मौका नहीं आयेगा। इस दौरान प्रधानमंत्री ने छात्रों के कठिन सवालों के जवाब भी दिए।


सोशल मीडिया पर यहां से शेयर करें

संबंधित ख़बरें