चीन की एपल ने सप्लायर कंपनी क्वांटा के खिलाफ शुरू की जांच स्कूली छात्रों से काम करवाने का आरोप

सोशल मीडिया पर यहां से शेयर करें

हॉन्गकॉन्ग। आईफोन निर्माता एपल की सप्लायर कंपनी क्वांटा कंप्यूटर पर स्कूली छात्रों से काम करवाने का आरोप लगा है। एपल ने इसकी जांच शुरू कर दी है। सीएनएन की रिपोर्ट के मुताबिक हॉन्गकॉन्ग के लेबर राइट्स ग्रुप सैकॉम ने पिछले हफ्ते कहा था कि चीन के चॉन्गक्विंग शहर में क्वांटा कंप्यूटर के एपल वॉच प्लांट में स्टूडेंट्स काम करते पाए गए।
सैकॉम के मुताबिक जिन छात्रों से एपल वॉच प्लांट में काम करवाया जा रहा था उनकी उम्र 16 से 19 साल थी। छात्रों को उनके स्कूल प्रबंधन ने कंपल्सरी इंटर्नशिप के नाम पर जबरन काम करने के लिए भेजा। जबकि, उनकी पढ़ाई के क्षेत्र से इसका कोई लेना-देना नहीं।
सैकॉम का कहना था कि छात्रों से ओवरटाइम करवाया गया। कई छात्रों से पूरी रात शिफ्ट करवाई गई। यह चीन के नियमों और एपल के मानकों का उल्लंघन है।
एपल ने सोमवार को कहा कि क्वांटा के चॉन्गक्विंग प्लांट में मार्च से जून के बीच तीन बार ऑडिट किया गया। लेकिन, उस दौरान कोई छात्र काम करते हुए नहीं मिला था। लेकिन, ऐसा हुआ है तो जांच के बाद कार्रवाई की जाएगी।
एपल ने कहा कि कंपनी के मानकों के उल्लंघन के मामले में जीरो टॉलरेंस पॉलिसी है। ऐसा होने पर जरूरी कार्रवाई की जाएगी। उधर, क्वांटा ने आरोपों को गलत बताया है। उसका कहना है कि स्कूली छात्रों को इंटर्नशिप के लिए नहीं रखा।
सैकॉम ने करीब 24 छात्रों से इंटरव्यू के आधार पर क्वांटा पर आरोप लगाए। सैकॉम ने उन छात्रों से बात करने का दावा किया जिन्होंने गर्मियों में चॉन्गक्विंग प्लांट में काम किया था। सैकॉम के मुताबिक एक छात्र ने कहा था कि उसने एपल वॉच प्रोडक्शन से संबंधित काम किया। हर रोज 1200 घडिय़ां बनाने का टार्गेट था।


सोशल मीडिया पर यहां से शेयर करें

संबंधित ख़बरें

Leave a Comment