‘गोली मारना बंद करोÓ के नारे बुलंद

सोशल मीडिया पर यहां से शेयर करें


नई दिल्ली। नागरिकता संशोधन एक्ट के मसले पर देशभर में मचे हंगामे के बीच आज बजट सत्र की शुरुआत हो रही है। मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का ये पहला पूर्ण बजट है और सरकार के सामने अपना विजऩ पेश करने की चुनौती है. लेकिन सत्र शुरू होने से पहले ही विपक्ष ने सरकार को सीएए के मुद्दे पर घेरना शुरू कर दिया है, आज संसद परिसर के बाहर विपक्षी नेताओं ने मोदी सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया। कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी, कांग्रेस नेता राहुल गांधी, गुलाम नबी आज़ाद समेत विपक्ष के कई बड़े नेता इस प्रदर्शन के दौरान उपस्थित रहे। विपक्षी नेताओं ने हाथ में ‘संविधान बचाओÓ की तख्ती ली हुई थी। इस दौरान विपक्ष के नेताओं ने जामिया फायरिंग का जिक्र करते हुए ‘गोली मारना बंद करोÓ के नारे लगाए गए।
संसद परिसर के बाहर मौजूद गांधी मूर्ति पर विपक्ष ने नागरिकता संशोधन एक्ट के खिलाफ आवाज़ उठाई और सरकार के इस कानून को संविधान विरोधी बताया।
बता दें कि गुरुवार को केंद्र सरकार की ओर से सर्वदलीय बैठक बुलाई गई थी, जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी हिस्सा लिया था. पीएम मोदी की ओर से सभी पार्टियों से संसद के सत्र को सुचारू रूप से चलाने की अपील की गई, साथ ही भरोसा भी दिया गया कि सरकार आर्थिक समेत सभी मसलों पर चर्चा के लिए तैयार है।
बेरोजगारी, सीएए और अर्थव्यवस्था!
कांग्रेस की अगुवाई में विपक्ष की ओर से केंद्र सरकार को इस बजट सत्र में घेरने की तैयारी है. बेरोजगारी की बढ़ती समस्या, लगातार गिरती हुई जीडीपी और नागरिकता संशोधन एक्ट के मसले पर जारी विरोध के मुद्दे पर विपक्ष सरकार को घेरेगा। शनिवार को मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का पहला बजट पेश होगा और उसके बाद जब सदन की कार्यवाही शुरू होगी तो विपक्ष सवालों के तीर दागेगा. संसद की वेबसाइट पर उपलब्ध जानकारी के मुताबिक, विपक्ष की ओर से नागरिकता संशोधन एक्ट, नेशनल रजिस्टर फॉर सिटीजन, नेशनल पॉपुलेशन रजिस्टर समेत कई मसलों पर सवाल तैयार किए गए हैं।


सोशल मीडिया पर यहां से शेयर करें

संबंधित ख़बरें