खाड़ी देश में मरने वाले मजदूर के परिजनों को 50 लाख मुआवजा

सोशल मीडिया पर यहां से शेयर करें

नई दिल्ली। खाड़ी देश में मजदूर के तौर पर काम करने वाले केरल के एक श्रमिक की मौत के बाद परिवार ने 25 लाख रुपये मुआवजे के तौर पर मांगे। 2008 में परिवार ने मोटर ऐक्सिडेंट क्लेम्स ट्राइब्यूनल (एमएसीटी) में 25 लाख रुपये की मांग की थी। 10 साल तक चली कानूनी जंग के बाद सुप्रीम कोर्ट ने परिवार को 50 लाख रुपये ब्याज के साथ लौटाने का आदेश दिया। मांगी गई रकम से दोगुना मुआवजा देने का सर्वोच्च न्यायालय का यह फैसला बहुत महत्वपूर्ण है।

10 मई 2008 को हुए ऐक्सिडेंट में केरल इस्माइल की मौत हो गई थी। इस्माइल अपने पीछे परिवार में 22 साल की विधवा और दो मासूम बच्चों के साथ 90 साल के बुजुर्ग पिता को छोड़ गए। दोहा में इस्माइल एक फूड सेंट 2500 कतर रियाल (30,000) रुपए की नौकरी करते थे। परिवार ने मुआवजे के तौर पर 25 लाख रुपए की मांग की। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि सर्वोच्च अदालत की ऐसी कोई बाध्यता नहीं है कि वह मुआवजे की जो रकम मांगी गई है उससे अधिक देने का आदेश नहीं दे सकती। सेक्शन 168 के तहत मोटर वीइकल ऐक्ट 1988 के प्रभावी होने के वक्त से ही यह मुआवजे आवंटन का काम कर रही है। सुप्रीम कोर्ट को इस रकम को अगर उचित लगे तो बढ़ाने का पूरा अधिकार है।


सोशल मीडिया पर यहां से शेयर करें

संबंधित ख़बरें

Leave a Comment