ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म से पांच हजार रेस्तरां हटाए गए

सोशल मीडिया पर यहां से शेयर करें
  • 1
    Share

नई दिल्ली। एग्रीगेटरों ने पांच हजार से ज्यादा विक्रेताओं और रेस्तरां को अपनी वेबसाइट से हटा दिया है क्योंकि उन्होंने फूड सेफ्टी रेगुलेटर फूड सेफ्टी स्टैंडर्ड अथॉरिटी ऑफ इंडिया (एफएसएसएआइ) से लाइसेंस नहीं लिया था।

यह जानकारी एफएसएसएआइ के सीईओ पवन कुमार अग्रवाल ने दी। फूड विक्रेताओं पर रोक लगाने वाली ई-फूड कंपनियों में बॉक्स8, फासोस, फूडक्लाउड, फूडमिंगो, जसफूड, लाइमट्रे और उबरईट्स भी शामिल हैं।

एफएसएसएआइ ने ग्राहकों से खराब खाद्य वस्तुओं की सप्लाई होने की शिकायतें मिलने के बाद जुलाई में इन कंपनियों को ऐसे विक्रेताओं को अपने प्लेटफार्म से हटाने का निर्देश दिया था जिन्होंने लाइसेंस नहीं लिया है। अग्रवाल के अनुसार 5000 से ज्यादा विक्रेताओं और रेस्तरां को हटा दिया गया है। एफएसएसएआइ ने फूड सेफ्टी नियम लागू करने के लिए यह कदम उठाया था।1फूड रेगुलेटर ने हटाए गए फूड विक्रेताओं की राज्यवार सूची देने के लिए कंपनियों को निर्देश दिया है ताकि प्रवर्तन एजेंसियां उन पर आगे की कार्रवाई कर सकें। जोमैटो फूड डिलीवरी के सीईओ मोहित गुप्ता ने कहा कि कंपनी ने 41 शहरों में सैकड़ों रेस्तरां अपने प्लेटफार्म से हटाए हैं। कंपनी इन शहरों में ऑनलाइन ऑर्डरिंग व फूड डिलीवरी सर्विस देती है। लाइसेंस लेकर जमा करवाने पर इन विक्रेताओं को दोबारा प्लेटफार्म से जोड़ा जाएगा।
इससे पहले एफएसएसएआइ ने इन कंपनियों को लाइसेंस, फूड बिजनेस ऑपरेटरों (एफबीओ) के साथ समझौते और उनके वैध लाइसेंस सुनिश्चित करने के लिए आंतरिक व्यवस्था की जानकारी देने को कहा था। फूड रेगुलेटर ने इस साल फरवरी में ई-कॉमर्स एफबीओ के लिए गाइडलाइन लागू की थी।


सोशल मीडिया पर यहां से शेयर करें
  • 1
    Share

संबंधित ख़बरें

Leave a Comment