इंदिरा और सोनिया की राह पर राहुल

सोशल मीडिया पर यहां से शेयर करें

दिसंबर 1979 में इंदिरा गांधी ने किए थे महाकालेश्वर के दर्शन।
2008 में सोनिया गांधी भी पहुंची थीं दर्शन करने।
मुख्यमंत्री शिवराज ने जन आशीर्वाद यात्रा की भी महाकालेश्वर से ही की थी शुरुआत।

इंदौर। इंदिरा गांधी सत्ता में लौटने से पहले दिसंबर 1979 में महाकालेश्वर मंदिर में दर्शन के लिए पहुंची थीं। सोनिया गांधी वर्ष 2008 में यहां आईं लेकिन कांग्रेस मध्य प्रदेश में जीत का परचम नहीं फहरा सकी। हालांकि, एक साल बाद ही उन्होंने केंद्र में दोबारा सरकार बना ली। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी सोमवार को उज्जैन स्थित चर्चित शिव मंदिर पहुंचे हैं, उन्हें भी शायद कुछ इसी तर्ज पर चमत्कार की उम्मीद है।
सोमवार को उज्जैन पहुंचे राहुल गांधी ने महाकालेश्वर मंदिर में पूजा-अर्चना की। बता दें कि यह 12 ज्योतिर्लिंग में से एक हैं और इसे मध्य प्रदेश की राजनीति में भी अहम माना जाता है। प्रत्येक राजनीतिक यात्रा हो या फिर अभियान, यहीं पर दर्शन के साथ ही शुरू होते हैं। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी अपनी जन आशीर्वाद यात्रा यहीं से शुरू की, बीजेपी अध्यक्ष अमित भी यहां आए और राज्य कांग्रेस प्रमुख कमलनाथ ने भगवान महाकाल को यह कहते हुए खुला खत लिखा कि वह सीएम को अपना आशीर्वाद न दें।
यह है कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की यात्रा का शेड्यूल
-अपने दौरे के दूसरे दिन 30 अक्टूबर को सुबह 9 बजे से 10 बजे तक इंदौर रेडिसन में संपादकों, पत्रकारों, व्यापारी समुदाय एवं व्यवसायियों से चर्चा करेंगे।
-राहुल दौरे के दूसरे दिन धार में और खरगोन में आम सभाओं को संबोधित करेंगे।
-वह शाम 4.50 बजे महू पहुंचकर वहां आंबेडकर प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित करेंगे और महू में ही नया दशहरा मैदान में आमसभा को संबोधित करेंगे।
-राहुल गांधी शाम 7 बजे स?क मार्ग से इंदौर पहुंचकर विशेष विमान द्वारा दिल्ली के लिए रवाना हो जाएंगे।
-इन सभी कार्यक्रमों में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ और प्रचार अभियान समिति के अध्यक्ष ज्योतिरादित्य सिंधिया भी उनके साथ शिरकत करेंगे।


सोशल मीडिया पर यहां से शेयर करें

संबंधित ख़बरें

Leave a Comment