आम्रपाली के मालिकों पर सुप्रीम कोर्ट ने कसा शिकंजा

सोशल मीडिया पर यहां से शेयर करें
  • 1
    Share

नोएडा। आम्रपाली के मालिकों पर सुपीम कोर्ट ने शिकंजा कसा है। कंपनी के सीएमडी अनिल शर्मा निदेशक शिव प्रिया व अजय कुमार को हिरासत में भेजा गया है। हालांकि उनकी गिरफ्तारी नहीं हुई है। कोर्ट ने आम्रपाली से फोरेंसिक ऑडिटर के दस्तावेजों को मुहैया कराने के लिए कहा था।

सुप्रीमकोर्ट का फैसला सुनते ही बायर्स में खुशी की लहर दौड़ गई। मानो की वर्षों से किया जा रहा इंतजार मूर्त रूप लेने लगा है। इस क्रम में नेफोमा के अध्यक्ष अन्नू खान ने बायर्स के साथ लड्डू बांटे।

अन्नू खान ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले का तहेदिल से स्वागत किया जिस तरह आम्रपाली बिल्डर 40 हजार बॉयर्स को तारीख पर तारीख दे रहा था, हजारों फ्लेट बॉयर्स दस साल से घर के इंतजार में सड़कों पर भटक रहे है उसी क्रम में सुप्रीम कोर्ट को भी कई तारीख से दस्तावेज जमा करने के नाम पर हीलाहवाली कर रहा था, सुप्रीम कोर्ट ने बॉयर्स के हितों की रक्षा करते हुए एक ऐतिहासिक फैसला लिया जिससे कोर्ट ने साफ कहा कि बहुत हुईं लुका छिपी अब जब तक दस्तावेज कोर्ट में जमा नही कराएंगे तब तक तीनो डाइरेक्टर पुलिस की हिरासत में रहेंगे।

दरअसल सुप्रीम कोर्ट ने नीलामी के लिए 16 प्रोपर्टी के कागजात सुप्रीम कोर्ट में जमा करने के लिए कहा था, जिससे प्रोपर्टी को नीलाम करने के बाद जो पैसा बसूला जाता उससे बाकी प्रोजेक्ट पर कार्य कराया जाता। लड्डू बांटकर खुशी जाहिर करने वालो में रश्मी पाण्डेय जनरल सेक्रेटरी नेफोमा, उपकार सिंह, आसिम खान, आदित्या अवस्थी, राशिद सिद्दीकी आदि शामिल रहे।

वहीं शैलेंद्र वर्णवाल डीके श्रीवास्तव सुनील विनोद अमरजीत एके श्रीवास्तव आदि ने भी मिठाई बांट कर एक-दूसरे से खुशी साझा की। शैलेंद्र वर्णवाल ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट का फैसला स्वागत योग्य है और इससे बार्यस को काफी राहत मिलेगी।
आम्रपाली के सीएमडी अनिल शर्मा की पहुंच राजनीतिक गलियारों के साथ-साथ ब्यूरोक्रेसी में थी।
जिस कारण वह सफलता की सीढिय़ां तेजी से चढ़ा लेकिन बायर्स के पैसे का गबन कर लिया। फिलहाल मामला विचाराधीन है।


सोशल मीडिया पर यहां से शेयर करें
  • 1
    Share

संबंधित ख़बरें

Leave a Comment