अयोध्या केस: मध्यस्थता को मुस्लिम पक्षकारों ने दिया नाम

सोशल मीडिया पर यहां से शेयर करें

दिल्ली। अयोध्या केस में मध्यस्थता पर फैसला सुरक्षित रखने के अगले दिन मुस्लिम पक्षकारों में अपनी ओर से मध्यस्थता के नाम कोर्ट को दे दिए। मुस्लिम पक्षकारों के वकील एजाज मकबूल ने कहा कि हमने भी कोर्ट में मध्यस्थता के लिए नाम दे दिए हैं। हालांकि, उन्होंने इन नामों को बताने से इंकार कर दिया है। इससे पहले मध्यस्थता के लिए निर्मोही अखाड़ा ने तीन नाम दिए हैं। इनमें सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जज कुरियन जोसेफ, एके पटनायक और जीएस सिंघवी शामिल हैं। हिंदू महासभा ने पूर्व सीजेआई दीपक मिश्रा, पूर्व सीजेआई जेएस खेहर और सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज एके पटनायक के नाम मध्यस्थता के लिए दिए हैं। मुस्लिम पक्षकारों का कहना है कि हमने कोर्ट में मध्यस्थता करने वालों के नाम दे दिए हैं। कोर्ट के आदेश पर इन नामों को सार्वजनिक किया जाएगा। हिंदू महासभा ने बुधवार को सुप्रीम कोर्ट में कहा कि केस को मध्यस्थता के लिए भेजे जाने से पहले नोटिस जरूरी है। यही कारण है कि हिंदू महासभा इसका विरोध कर रहा है। उन्होंने कहा कि क्योंकि ये हमारी जमीन है इसलिए हम मध्यस्थता के लिए तैयार नहीं हैं। इस पर जस्टिस भूषण ने कहा है कि इस मामले में अगर पब्लिक नोटिस दिया गया तो मामला वर्षों तक चलेगा, ये मध्यस्थता कोर्ट की निगरानी में होगी।


सोशल मीडिया पर यहां से शेयर करें

संबंधित ख़बरें

Leave a Comment